कानपुर, जेएनएन। घाटमपुर के बसंत बिहार मोहल्ला निवासी मेडिकल स्टोर संचालक रवि मोहन की हत्या उसकी पत्नी ने प्रेमी व एक रिश्तेदार के साथ मिलकर की थी। रविवार को पुलिस ने पांच अक्टूबर को हुई इस सनसनीखेज वारदात का राजफाश कर दिया। मृतक की पत्नी व रिश्तेदार को गिरफ्तार किया गया है। प्रेमी को पहले ही पुलिस जेल भेज चुकी थी।

ये है पूरा मामला

मेडिकल स्टोर संचालक रवि मोहन पांच अक्टूबर को रहस्यमय ढंग से लापता हो गए थे। उनकी पत्नी रेनू ने घाटमपुर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। अगले दिन रवि मोहन का शव बांदा जिले के बबेरू थाना अंतर्गत बदेहदू गांव में नहर के पास पड़ा मिला था। जिस पर रवि मोहन के चाचा ने जाकर शिनाख्त की थी। घटना के बाद रवि मोहन के चाचा ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। साथ ही रवि मोहन के घर पर रहने वाले उसके भांजे फतेहपुर निवासी महेंद्र कुमार उर्फ मोनू पर शक जताया था। पुलिस ने जांच के बाद महेंद्र उर्फ मोनू को गिरफ्तार करके जेल भेजा था। इसके बाद रवि मोहन के चचेरे भाई ने पुलिस की विवेचना से असंतोष जताते हुए डीआइजी से गुहार लगाई थी। तब मुकदमे की विवेचना क्राइम ब्रांच स्थानांतरित कर दी गई थी। रविवार को क्राइम ब्रांच के विवेचक रामबाबू ने इस घटना का राजफाश किया। 

एसपी क्राइम डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि विवेचना में सामने आया है कि रवि मोहन की हत्या उसकी पत्नी रेनू ने रवी मोहन के भांजे महेंद्र और चित्रकूट जिला कर्वी थाना अंतर्गत संग्रामपुर गांव निवासी चंद्रप्रकाश उर्फ भोले के साथ मिलकर की थी। रेनू ने इकबाल ए जुर्म करते हुए बताया है कि उसके महेंद्र से अवैध संबंध थे, जिस पर रवि मोहन एतराज करता था और आए दिन झगड़ा होता था। इसी से तंग आकर उसने रवि मोहन की महेंद्र व एक रिश्तेदार चंद प्रकाश के साथ मिलकर हत्या कर दी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021