उन्नाव, जेएनएन। माखी कांड की दुष्कर्म पीडि़ता के साथ रायबरेली में हुए हादसे के गवाह पूर्व ब्लाक प्रमुख व दुष्कर्म पीडि़ता के चाचा की जमानत लेने वाले पर कानपुर-लखनऊ हाईवे पर ट्रक चालक की जान लेने की कोशिश की। टक्कर लगने से डिवाइडर पर चढ़ी कार में चालक ने फिर टक्कर मारने के लिए ट्रक को बैक किया उसी दौरान कार सवारों ने उतर कर अपनी जान बचाई। घटना के बाद चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया। पूर्व ब्लॉक प्रमुख ने जानलेवा हमले की तहरीर पुलिस को दी है। पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने की कार्रवाई कर रही थी।

अजगैन थाना क्षेत्र के गौरा कठेरवा गांव निवासी व नवाबगंज के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अवधेश प्रताप सिंह ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया कि हाइवे पर अजगैन क्षेत्र के एक ढाबा के समीप लखनऊ से कानपुर की ओर जा रहे एक खाली ट्रक ने पीछे से टक्कर मार दी। इससे कार बेकाबू होकर डिवाइडर पर चढ़ गई। इसी दौरान ट्रक चालक ने ट्रक को बैक करने के बाद फिर से टक्कर मारने की कोशिश की, किसी तरह वह जान बचा कार से बाहर की ओर भागे। आसपास मौजूद लोगों के दौडऩे पर चालक ट्रक छोड़कर भाग निकला।

सूचना पर अजगैन पुलिस ने मौके पर पहुंची और ट्रक को लेकर कोतवाली चली गई। पूर्व ब्लॉक प्रमुख अवधेश प्रताप सिंह ने बताया कि वह माखी दुष्कर्म कांड की पीडि़ता के साथ रायबरेली में हुए हादसे में सीबीआइ के प्रमुख गवाह हैं। इतना ही नहीं उनकी कार चला रहा युवक दुष्कर्म पीडि़ता के जेल में बंद चाचा के एक मामले की जमानत ले चुका है। पूर्व ब्लाक प्रमुख के मुताबिक उन्हें कई बार गवाही न देने की धमकी भी दी जा चुकी है। अजगैन थानाध्यक्ष अजयराज वर्मा के मुताबिक तहरीर के आधार पर जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज की जा रही है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस