कानपुर, जागरण संवाददाता। शहरवासियों को 23 से 25 जून के बीच मानसून आने पर गर्मी से निजात मिलने की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। मानसून के ठिठकने से उमस भरी गर्मी परेशान कर रही है। तीन दिन तक वर्षा के कोई आसार नहीं है। बंगाल की खाड़ी में मानसून को आगे बढ़ाने वाला कोई लो प्रेशर व सर्कुलेशन सिस्टम सक्रिय न होने से मानसून की गति थम गई है।

सीएसए कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि अगले दो दिन में अधिकतम 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने के आसार हैं।

उन्होंने बताया कि बुधवार को अधिकतम तापमान 39.0 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उत्तर पूर्व दिशा से औसत 4.6 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलती रही।

उन्होंने बताया कि अगले पांच दिनों में हल्के से मध्यम बादल छाए रहने के साथ उमस भरी गर्मी बनी रहने की संभावना है। देश भर में बने मौसमी सिस्टमो के बारे में बताया कि पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर और आसपास के इलाकों पर बना हुआ है।

प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तर पश्चिमी राजस्थान पर बना है। एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र झारखंड और ओडिशा के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है। एक ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात तट से केरल तट तक फैली हुई है। 23 से 27 जून के बीच उत्तरी मैदानी इलाकों और पहाड़ियों पर भी बारिश नहीं होगी। 28 और 29 जून के आसपास वर्षा होगी।

Edited By: Abhishek Agnihotri