मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कानपुर, जेएनएन। शहर में सरसौल क्षेत्र में आए प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ग्रामीणों को जल संरक्षण की शपथ दिलाई। उन्होंने कहा, वन रहेगा तो जल रहेगा और जब जल रहेगा तभी हमारा जीवन रहेगा, तभी हम और आप रहेंगी। जल ही जीवन है, और जल है तो कल है।

सरसौल के मंधना गांव के बाहर बने स्टेडियम परिसर में शनिवार को वर्षा जल संचयन व जल संरक्षण पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। यहां पर डिप्टी सीएम ने नीम, आंवला सहित पांच पौधे लगाकर पौधरोपण अभियान को गति देने का आह्वान किया। उन्होंने जल संरक्षण पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सभी सरपंचों को संबोधित पत्र पढ़कर सुनाया। कहा, तापमान निरंतर बढ़ता जा रहा है, भीषण गर्मी लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। हम अभी नहीं चेते तो निकट भविष्य में भीषण संकट हो जाएगा।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि दशकों पूर्व जब वर्षा होती थी तो पानी तालाबों में जाता था लेकिन आज उन्हीं तालाबों पर अवैध कब्जे कर मकान बना चुके हैं। छोटी छोटी नदियों को पाटकर खेत बना चुके हैं। वृक्षों को काटकर बेच देते हैं। इसी वजह से पर्यावरण असंतुलित हो रहा है और जीवन संकटों से घिरता जा रहा है।

केशव प्रसाद मौर्य ने पर्यावरण को बचाने की अपील करते हुए कहा कि अपनी संतानों की तरह हमे पेड़ो की रक्षा करनी है। पौधे सूखने न पाएं और जानवर चरने न पाएं। हम सभी को वृक्षों को बचाना है तभी हमारी रक्षा होगी। उन्होंने कहा कि अवैध तालाबों पर जो लोग कब्जा किए हुए हैं वो स्वेच्छा से कब्जामुक्त कर आने वाली पीढिय़ों को जीवन का वरदान दें।

गरीबों की कुटिया में जा रहा सरकारी खजाना

डिप्टी सीएम ने कहा कि भाजपा की केन्द्र व प्रदेश की सरकारों में सरकारी खजाना भ्रष्टाचारियों के घरों में नहीं बल्कि गरीबों की कुटियों में जा रहा है। विभिन्न सरकारी योजनाओं के द्वारा गरीबों को विकास की मुख्य धारा से जोड़ा जा रहा है। कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा कार्यालय प्रभारी भारत दीक्षित, कैबिनेट मंत्री सतीश महाना, सांसद देवेन्द्र सिंह भोले, विधायक अभिजीत सिंह सांगा, महेश त्रिवेदी, भगवती प्रसाद सागर आदि रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप