कानपुर, जेएनएन। Kanpur Murder Case बर्रा के पांडु नदी किनारे युवक की हत्या कर शव फेंकने के मामले में मृतक के शव की शिनाख्त नहीं हो पाई है। छानबीन के दौरान मृतक के टेंट लगाकर देसी जड़ी-बूटी का काम करने की हुई थी। पुलिस ने इस तरह का काम करने वालों से संपर्क किया और कई लोगों को फोटो दिखाकर पहचान कराने के प्रयास किए, लेकिन सफलता नहीं मिली। पुलिस ने दो टीमों को अमरोहा और बुलंदशहर भेजा है।

बीते 19 जुलाई को फत्तेपुर गोही में पांडु नदी के किनारे झाड़ियों में अज्ञात 35 वर्षीय युवक का औंधे मुंह शव पड़ा मिला था। उधर से गुजरे राहगीरों ने शव पड़ा देखकर कंट्रोल रूम को सूचना दी थी। जिस पर मेहरबान सिंह का पुरवा चौकी पुलिस पहुंची थी। शव पर सिर्फ अंडरवियर ही मिला था। फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल पहुंचकर साक्ष्य जुटाए थे।  

शव पर दाहिनी कलाई, बाईं ओर सिर और आंख पर चोट मिली थी। पोस्टमार्टम में भारी वस्तु के प्रहार से हत्या किये जाने की पुष्टि हुई थी। थाना प्रभारी बर्रा हरमीत सिंह ने बताया कि शिनाख्त के प्रयास के दौरान मृतक के सड़क किनारे टेंट लगाकर देसी जड़ी बूटी बेचने का काम करने की जानकारी हुई थी। इस पर पुलिस ने नौबस्ता, बर्रा समेत अन्य कई स्थानों पर देसी जड़ी बूटी का काम करने वालों को फोटो दिखाकर पहचान के प्रयास किए, लेकिन सफलता नहीं मिली थी। थाना प्रभारी बर्रा ने बताया कि देसी जड़ीबूटी का काम करने वालों से पूछताछ के दौरान सामने आया था कि शहर में अधिकांश देसी जड़ीबूटी का काम करने वाले अमरोहा और बुलंदशहर से आते हैं। इस पर दो टीमों को अमरोहा और बुलंदशहर भेजा गया है। हालांकि टीम को अभी कोई अपडेट नहीं मिला है।

Edited By: Shaswat Gupta