कानपुर, जागरण संवाददाता। Kanpur Girls Hostel Case : चंडीगढ़ की तरह रावतपुर के तुलसी नगर स्थित हास्टल में छात्रा का नहाते समय वीडियो बनाने का मामला अब तूल पकड़ रहा है। सफाई कर्मी के मोबाइल में दस से ज्यादा वीडियो मिलने की बात सामने आ रही है लेकिन पुलिस फिलहाल दो धुंधले वीडियो मिलने की बात कह रही है। मोबाइल की फोरेंसिक जांच के बाद ही अश्लील वीडियो की पुष्ट हो सकेगी। वहीं दूसरी ओर हास्टल में रहने वाली छात्राएं बेहद डरी और सहमी हैं। दो दिन में हास्टल खाली हो चुका है और 60 छात्राओं में अब सिर्फ छह छात्राएं ही बची हैं।

गर्ल्स हास्टल में रहती 60 छात्राएं

रावतपुर के तुलसी नगर स्थित तीन मंजिला मकान में पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र नाथ तिवारी की नेमप्लेट लगी है। इस भवन को किराये पर लेकर मनोज पांडेय गर्ल्स हास्टल का संचालन करता है। यहां पर मौजूदा समय में नीट की तैयारी के लिए कोचिंग करने वाली 60 लड़कियां रह रही हैं। बीते गुरुवार को बाथरूम में नहाते हुए अश्लील वीडियो बनाने से नाराज छात्राओं ने हंगामा किया था। 

वूमेन हेल्प लाइन पर भी शिकायत

नीट की तैयारी कर रही छात्रा ने पुलिस को बताया था कि एक छात्रा बाथरूम में नहा रही थी। हास्टल के सफाई कर्मी सर्वोदय नगर निवासी ऋषि टूटे दरवाजे में नीचे से मोबाइल अंदर करके वीडियो बना रहा था। इस बीच मोबाइल देखा तो उसने शोर मचा दिया तो हास्टल की अन्य छात्राएं वहां पहुंच गईं। वूमेन हेल्प लाइन नंबर पर शिकायत करने के साथ ही काकादेव थाने गई थीं।

संचालक और सफाई कर्मी गिरफ्तार, वार्डन को जमानत

रावतपुर थाने में छात्राओं के हंगामे के बाद पुलिस आरोपित ऋषि को पकड़ कर लाई थी। छात्राओं का आरोप था कि हास्टल संचालक मनोज पांडेय और वार्डन सीमा पाल ने उन लोगों का भविष्य खराब करने की धमकी दी थी। पुलिस ने मुख्य आरोपित समेत तीनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की थी। कल्याणपुर एसीपी दिनेश कुमार शुक्ला ने बताया कि छात्रा की तहरीर के पर तीनों आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है।

फोरेंसिक और सर्विलांस जांच से सामने आएंगे वीडियो

सफाई कर्मी ऋषि के मोबाइल में कितनी छात्राओं के अश्लील वीडियो हैं, इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है। लेकिन, चर्चा है कि मोबाइल में दस से ज्यादा अश्लील वीडियो मिले है। हालांकि रावतपुर पुलिस के मुताबिक आरोपित के मोबाइल पर दो धुंधले वीडियो होने की बात सामने आयी है, अंधेरा होने के चलते किसी का चेहरा स्पष्ट नहीं था। फोरेंसिक और सर्विलांस जांच के बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी कि उसके मोबाइल से कितने वीडियो बनाए गए और उसने किससे वीडियो शेयर किए।

हास्टल से पलायन कर गईं 80 प्रतिशत छात्राएं

रावतपुर थाने में तहरीर देने के बाद अब हास्टल तकरीबन खाली हो चुका है। घटनाक्रम का सीसी फुटेज देखने का प्रयास किया तो सबकुछ डिलीट मिला। इसके बाद खुद को असुरक्षित महसूस करने वाली आसपास जिलों की 80 प्रतिशत छात्राओं ने हास्टल खाली कर दिया। हास्टल में शुक्रवार को छह लड़कियां ही बची थीं।

सिपाहियों से मोबाइल लेकर ऋषि ने डिलीट कर दिए वीडियो

छात्राओं का आरोप है कि मौके पर आए पीआरवी के सिपाहियों ने तत्परता नहीं दिखाई। सिपाहियों ने कब्जे में लिया मोबाइल लाक खोलने के लिए ऋषि को वापस दे दिया। मोबाइल हाथ में आते ही ऋषि ने सभी वीडियो डिलीट कर दिए। हास्टल में हुए घटनाक्रम के साक्ष्य मिटाने के लिए वार्डन ने पांच सीसीटीवी कैमरों के डीवीआर से सबकुछ डिलीट कर दिया। 

बिना खटखटाए कमरे में आ जाता था कर्मी

छात्राओं ने बताया कि आरोपित कर्मचारी सुबह दोपहर शाम किसी भी समय बिना दरवाजा खटखटाए ही सफाई के नाम पर कमरे के अंदर दाखिल हो जाता था। इससे कई बार छात्राएं असहज महसूस करती थीं। कई बार काम करते हुए वह अश्लील गाने भी गाता था। हास्टल में वार्डन को छोड़कर कोई भी महिला कर्मी तैनात नहीं है। वार्डन भी सुबह 11 बजे से शाम सात बजे तक ही रहतीं। इसके बाद हास्टल संचालक अपने साथियों व कर्मचारियों के साथ अक्सर गेस्ट रूम में बैठकर शराब पीते और गाली गलौज भी सुनाई देती थी।

दो हास्टल चलाता है संचालक

पुलिस के मुताबिक हास्टल संचालक मनोज पांडेय का तुलसी नगर के साथ काकादेव में भी गर्ल्स हास्टल है। दूसरे हास्टल में भी साफ-सफाई की जिम्मेदारी ऋषि की ही थी। घटना के बाद काकादेव स्थित हास्टल से भी लड़कियों का पलायन शुरू हो गया और छात्राओं ने कमरों की साफ-सफाई कराने से इन्कार कर दिया। 

कानपुर पुलिस कमिश्नरेट के एसीपी कल्याणपुर दिनेश कुमार शुक्ला का कहना है कि नीट की तैयारी कर रही छात्रा ने शिकायत की थी, जिसकी तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। मोबाइल को सीज करके फोरेंसिक और सर्विलांस के लिए भेजा जा रहा है। अगर कुछ डीलीट किया है तो डाटा रिकवर कराया जाएगा। 

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट