कानपुर, जेएनएन। बीते दिनों पहाड़ों पर तेज बारिश के बाद अभी आसार बने हैं, जिसके चलते नरौरा से बहाव बढ़ने के बाद कानपुर में भी गंगा नदी में जलस्तर काफी तेजी से बढ़ रहा है। पांच दिन में गंगा नदी में पानी का स्तर चेतावनी बिंदु के करीब पहुंच गया है। गंगा में उफान देखकर पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया था और बीती शाम बैराज के सभी तीस गेट खोल दिए गए हैं। अब जल का बहाव तेजी से शुक्लागंज की ओर बढ़ रहा है।

करीब एक सप्ताह पहले पहाड़ों पर तेज बारिश के बाद नदियों में जल स्तर इजाफा होना शुरू हो गया था। इसके देखते हुए गंगा नदी में नरौना से पानी का बहाव तेज हो गया था। बीते बीस अक्टूबर को तेज जलधारा देखकर गंगा बैराज पर सिंचाई विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया था। वहीं तीस में बीस गेट खोल दिए गए थे। बैराज पर तैनात कर्मचारी लगातार नजर रखे हुए हैं। उस समय शुक्लागंज में गंगा का जलस्तर 110.75 मीटर पर होकर चेतावनी बिंदु से 2.25 मीटर दूर था।

इधर फिर जलस्तर तेजी से बढ़ा देखकर सिंचाई विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। बैराज के सभी 30 गेट शुक्रवार देर रात खोल दिए गए। शुक्लागंज में दो दिन में गंगा का जलस्तर 60 सेंटीमीटर बढ़ गया है। दो दिन पहले शुक्लागंज में गंगा का जलस्तर 111.19 मीटर था जो शनिवार को 111.79 मीटर हो गया है। चेतावनी ङ्क्षबदु 113 मीटर पर है। सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता पंकज गौतम टीम के साथ बैराज पर नजर रखे हुए हैं। बैराज में शुक्रवार सुबह तक 20 गेट खुले थे। शुक्रवार की रात सभी 30 गेट खोल दिए गए।

गंगा नदी के जलस्तर पर एक नजर

अपस्ट्रीम पर जलस्तर - 113 मीटर

डाउनस्ट्रीम पर जलस्तर- 112.76 मीटर

शुक्लागंज में सुबह जलस्तर - 111.79 मीटर

चेतावनी बिंदु - 113 मीटर

खतरनाक बिंदु - 114 मीटर

नरोरा बांध से छोड़ा गया पानी - 2,04,132 क्यूसेक

बैराज से शुक्लागंज की तरफ बुधवार को छोड़ा गया पानी - 2,81,400 क्यूसेक

Edited By: Abhishek Agnihotri