औरैया, जेएनएन। दिल्ली से कोलकाता को जोडऩे वाले (राष्ट्रीय राजमार्ग-19) स्थित औरैया जिले में अनंतराम गांव के पास फ्लाईओवर की रिटेनिंग वाल (आरई) के करीब 10 पैनल (मलबा रोकने वाले सीमेंटेड टुकड़े) धंस गए हैं। खतरा भांपते हुए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने फ्लाईओवर पर एक तरफ का यातायात बंद करा दिया है। प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक, पैनल धंसने की वजह से मलबा सर्विस रोड पर आ गया है। दोनों लेन पर यातायात शुरू होने में करीब एक सप्ताह का समय लगेगा। निर्माण के दौरान दिक्कत होने पर तीनों लेन बंद कराई जाएंगी। पैनल धसकने की वजह जिले में बीते चार दिन से लगातार हो रही बारिश बताई गई है। आइआइटी कानपुर के वैज्ञानिकों की टीम शनिवार को निरीक्षण करके तकनीकी वजह का पता लगाने के साथ मरम्मत के लिए सुझाव देगी।

कानपुर से इटावा होकर औरैया सीमा में प्रवेश करते ही हाईवे पर अनंतराम गांव के पास करीब तीन सौ मीटर का फ्लाईओवर है। इससे नीचे उतरने के बाद अनंतराम टोल प्लाजा स्थित है। एनएचएआइ अफसरों के मुताबिक, फ्लाईओवर में डाले जाने वाले मलबे को रोकने के लिए दोनों ओर आरई पैनल नट-बोल्ट से कसे हैं। अनुमान है कि लगातार चार दिन से हो रही बारिश के कारण सड़क से पानी अंदर जाने से करीब 10 आरई पैनल धंस गए। इटावा से कानपुर की तरफ जाने वाली लेन में बैरीकेडिंग कराकर यातायात रोका गया है और वाहनों को डायवर्ट कर सर्विस रोड से गुजारा गया। इससे कई बार जाम की भी स्थिति बनी। वहीं, कानपुर से इटावा जाने वाली लेन पर वाहन पहले की तरह चल रहे हैं।

एनएचएआइ के चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर पीयूष कटियार ने बताया कि आरई पैनल धंसने को लेकर जांच शुरू कराई गई है। बारिश के चलते हादसा हुआ है। पैनल को दुरुस्त कराने में करीब एक सप्ताह का समय लगेगा। तब तक अपनाई गई अस्थायी व्यवस्था के तहत ही वाहनों को गंतव्य की ओर रवाना किया जाएगा। मरम्मत कार्य को लेकर अनंतराम गांव से करीब एक किलोमीटर पहले ही वाहनों को रूट डायवर्ट कर निकाला जा रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि आइआइटी की टीम के सुझाव पर समस्या हल की जाएगी।

वर्ष 2018 और 2016 में भी धंस चुके पैनल

दिल्ली से कोलकाता को जोडऩे वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-19 के निर्माण की गुणवत्ता की पोल अक्टूबर 2018 में भी खुल चुकी है। तब भी औरैया में ही टोल प्लाजा से पहले अनंतराम कस्बा के समीप हाईवे का फ्लाईओवर जवाब दे गया था। आरई पैनल निकलने के साथ सड़क का कुछ हिस्सा भी क्षतिग्रस्त हो गया था। इसके बाद करीब एक सप्ताह तक पैनल व रोड की मरम्मत में समय लगा था। इसी तरह अगस्त 2016 में प्रतापपुरा के पास फ्लाईओवर का पैनल धंसने से दिक्कत हुई थी।

Edited By: Abhishek Agnihotri