जागरण संवाददाता, कानपुर : पोस्टमार्टम हाउस में पोस्टमार्टम जल्दी कराने व अन्य व्यवस्थाओं के नाम पर अवैध वसूली नहीं रुक रही है। बोनकटर जैसे सामान मंगाने के मामले की जांच अभी पूरी भी नहीं हुई है कि बुधवार को उन्नाव में सुसाइड करने वाले युवक के परिजनों से पोस्टमार्टम के नाम पर 850 रुपये वसूले गए। परिजनों के हंगामा करने पर हैलट चौकी में अवैध रूप से तैनात उगाही करने वाले होमगार्ड ने 150 रुपये वापस किए। इस मामले की जानकारी होते हुए भी जिम्मेदार शिकायत मिलने पर कार्रवाई की बात कहते रहे।

गरीबी की दुहाई पर भी नहीं पसीजे

एलएलआर अस्पताल (हैलट) में जहर खाने के चलते मंगलवार को भर्ती हुए उन्नाव के मिर्जापुर निवासी देशराज (23) की बुधवार को मौत हो गई। इसके बाद शुरू हुआ पोस्टमार्टम कराने को लेकर होने वाले उगाही का खेल। देशराज के चचेरे भाई अभिषेक के मुताबिक सबसे पहले हैलट चौकी प्रभारी की जगह पंचनामा भरने पहुंचे होमगार्ड देवेंद्र ने 150 रुपये लिये। उसके बाद शव गृह में मौजूद लोगों ने शव सील करने के नाम पर 500 रुपये मांगे, जो गरीबी की दुहाई देने के बाद 300 रुपये में राजी हुए। स्वीपर ने 500 रुपये मांगे पर बाद मे 400 रुपये में तैयार हो गया। इसके बाद भी देरी होने पर हंगामा किया तो होमगार्ड ने वर्दी का रौब दिखाया लेकिन मामला तूल पकड़ने पर 150 रुपये वापस कर दिए। वहीं फतेहपुर के कृपालपुर गांव निवासी कामता प्रसाद के परिजनों ने भी शव सील करने के नाम पर 350 रुपये वसूलने का आरोप लगाया।

-------

पोस्टमार्टम के नाम पर पैसे मांगने की जानकारी नहीं है। शिकायत मिलने पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

डॉ. नवनीत चौधरी, पोस्टमार्टम प्रभारी

---

किसी ने भी वसूली की शिकायत नहीं की है। शिकायत मिलने पर जांच करा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

-देवेन्द्र दुबे, इंस्पेक्टर स्वरूपनगर

Posted By: Jagran