फतेहपुर, जेएनएन। दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग पर शुक्रवार सुबह कानपुर से प्रयागराज जा रही मालगाड़ी का लोको पायलट (ट्रेन ड्राइवर) बेहोश होकर सीट से गिर गया। सहायक लोको पायलट ने ब्रेक लगाकर ट्रेन रोकी और अधिकारियों को सूचना दी। रेलवे अस्पताल के डा.मो. अल्ताफ अहमद ने प्राथमिक उपचार के बाद बेहोश लोको पायलट को एंबुलेंस से जिला अस्पताल भेजा। यहां से उन्हें एलएलआर हास्पिटल कानपुर रेफर कर दिया गया। इस बीच धीमी गति से लूप लाइन से अन्य ट्रेनों का आवागमन होता रहा।

मालगाड़ी (गुड्स ट्रेन बीकेएससी) सुबह 10:45 बजे फतेहपुर स्टेशन के पास पहुंचते ही प्रयागराज हेड क्वार्टर के लोको पायलट गणेश प्रसाद गुप्ता ड्राइविंग सीट से गिरकर बेहोश हो गए। इस पर सहायक लोको पायलट अजीत सिंह यादव ने इंजन संभाला और ब्रेक मारकर मेन लाइन के प्लेटफार्म नंबर दो पर गाड़ी रोककर स्टाफ को जानकारी दी। आरपीएफ दारोगा संजय कुमार तिवारी, सिपाही विकास बेहोश लोको पायलट को रेलवे अस्पताल ले गए और फिर जिला अस्पताल लाए। यहां चिकित्सक अरविंद सचान ने उपचार बाद लोको पायलट को कानपुर रेफर कर दिया। आरपीएफ इंस्पेक्टर प्रवीण ङ्क्षसह ने बताया कि डाउन लाइन बाधित नहीं हुई। लूप लाइन से ट्रेनों का आवागमन होता रहा। मालगाड़ी स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर दो पर खड़ी करा दी गई है। 

30 किमी. प्रतिघंटा की रफ्तार से चलीं ट्रेनें : मेल डाउन लाइन पर मालगाड़ी खड़ी होने से लूप लाइन से धीमी गति से ट्रेनों का आवागमन होता रहा। इस बीच वंदेभारत एक्सप्रेस और चार मालगाड़ी भी धीमी गति से निकाली गईं। रेल यातायात प्रभारी संदीप सिंह ने बताया कि 160 से 180 किमी. प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेनें दौड़ती हैं, लेकिन डाउन मेन लाइन में मालगाड़ी ट्रेन के खड़ी होने से 30 किमी. प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेनों को पास कराया गया। 

Edited By: Shaswat Gupta