कन्नौज, जेएनएन। राजकीय मेडिकल कालेज में बीमार पत्नी के इलाज के लिए दवा का पर्चा बनवाने को एक घंटे से कतार में खड़े रिटायर्ड शिक्षक गश खाकर गिर पड़े। कुछ ही देर में उनकी मौत हो गई। 

शुक्रवार को तिर्वा के लोहिया नगर निवासी 75 वर्षीय बृजनंदन लाल यादव अपनी बीमार पत्नी किरन यादव को लेकर दवा दिलाने राजकीय मेडिकल कालेज पहुंचे थे। वह डीएन इंटर कालेज से रिटायर्ड शिक्षक थे। पत्नी को ओपीडी में बैठाकर वह खुद फ्लू ओपीडी में जाकर पंजीकरण पर्चा बनवाने के लिए कतार में खड़े हो गए। सुबह करीब 11 बजे से एक घंटे तक कतार में खड़े रहने पर अचानक वह  गश खाकर गिर पड़े। इससे उनकी मौत हो गई। परिसर में खड़े अन्य मरीजों में हलचल मच गई। वार्ड ब्वाय सुनील ने स्ट्रेचर से उन्हें इमरजेंसी में पहुंचाया, जहां डा. सुमित कुमार ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। बृजनंदन के पास मिले मोबाइल फोन से जानकारी स्वजन को दी गई। पत्नी किरन व अन्य स्वजन पोस्टमार्टम कराने से इन्कार कर शव लेकर घर चले गए। प्रभारी निरीक्षक शैलेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया कि स्वजन ने कार्रवाई करने से इन्कार किया है। मेडिकल कालेज के सीएमएस डा. दिलीप ङ्क्षसह ने बताया कि गंभीर मरीजों को इमरजेंसी में भर्ती होना चाहिए। फ्लू ओपीडी में बुजुर्गों को वरीयता दी जाती है।  

Edited By: Shaswat Gupta