कानपुर, जेएनएन। देश को बेहतरीन टेक्नोक्रेट देने वाले आइआइटी के छात्र जांबाजी में भी किसी से कम नहीं हैं। बीटेक के दस छात्रों के समूह ने हिमाचल प्रदेश की 49 सौ मीटर ऊंची 'पिन भाबा पास' पहाड़ी पर फतह हासिल की। बारिश के दौरान उन्हें मुश्किल हुई लेकिन वह हिम्मत से लक्ष्य यानी चोटी तक पहुंचे। छात्रों ने सोशल मीडिया पर अपनी यह कामयाबी साझा की, अब उनकी खूब तारीफ हो रही है।

चढऩे उतरने में लगा पांच दिन का समय

आइआइटी के मोहित व ऋषभ समेत दस छात्रों ने साल भर की तैयारी के बाद काफनू से पहाड़ी चढऩे की शुरुआत की। उन्हें चढऩे व उतरने में पांच दिन का समय लगा। एडवेंचर क्लब से जुड़े पीएचडी के छात्र राहुल ने बताया कि क्लब के छात्र नियमित रूप से अभ्यास करते हैं। कड़ा अभ्यास ही उन्हें कामयाबी दिलाता है। इससे पहले आइआइटी एडवेंचर स्पोट्र्स क्लब के छात्र 10 हजार एक सौ फीट की ऊंचाई पर सिक्किम में सिल्क रूट साइकिलिंग कर चुके हैं। सिक्किम की 16 हजार 500 फीट ऊंची गोएचाला की पहाड़ी भी चढ़ी। हिमाचल की 10 हजार 987 फीट की भून भूनि पास व 17 हजार फीट की लमखागा पास पहाड़ी पर भी कामयाबी पाई।

ये भी दर्ज हैं उपलब्धियां

-नंदीकुंड, गढ़वाल : करीब 15 हजार फीट

-फ्रेंडशिप पीक ट्रेक, हिमांचल प्रदेश : 17 हजार 200 फीट

-गौमुख ट्रैक, उत्तराखंड : 10 हजार 55 फीट

-डोडीताल ट्रैक, उत्तराखंड : 9921 फीट

-अन्नपूर्णा बेस कैंस ट्रैक, नेपाल : 13650 फीट

-कंचन जंघा बेस कैंप : 28168 फीट 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस