कानपुर, जेएनएन। लखनऊ में बीते दिनों डिफेंस एक्सपो का आयोजन हुआ, जिसमें आइआइटी कानपुर का ड्रोन खास चर्चा में रहा। कई देशों से आए प्रतिनिधियों ने ड्रोन को खासा पसंद भी किया। वहीं प्रतिनिधियों ने ड्रोन कैचर पर ज्यादा जोर दिया, उनकी बात पर आइआइटी के विशेषज्ञों ने भी ध्यान दिया। 

आआइटी में आर्टिफिशयल इंटेजीजेंस पर बेहद काम हो रहा है। संस्थान के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर अभिषेक की कंपनी ने ड्रोन बनाया है। इसे डिफेंस एक्सपो में प्रदर्शन के लिए रखा गया था। यह एक तरह का ऑटोनॉमस हेलीकॉप्टर की तरह है और इसमें गैसोलीन इंजन लगाया गया है, जो 200 किलोमीटर तक आसानी से उड़ सकता है और गैसोलीन से चलता है। इसे सीमा पर निगहबानी, बाढ़ समेत प्राकृतिक आपदा पर अधिक प्रयोग में लाया जा सकता है। वहीं डिफेंस एक्सपो में देशों के प्रतिनिधियों ने ड्रोन कैचर को लेकर जोर दिया। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर आधारित यह ड्रोन सीमा में घुसे जासूस ड्रोन पकड़ सकता है। 

 

 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस