कानपुर, जागरण संवाददाता। सर्दी में धुंध और कोहरे के चलते सड़क हादसों की संख्या बढ़ जाती है। इसमें सिर और रीढ़ की हड्डी में चोट लगने पर घायल की स्थिति गंभीर हो जाती है। ऐसी स्थिति में मरीज को दुर्घटनास्थल से उठाकर अस्पताल तक पहुंचाने में सतर्कता बहुत जरूरी है। बेहोशी, याददाश्त में कमी, उल्टियां और हाथ-पैर में सुन्नपन है तो फौरन डाक्टर को दिखाएं। ये बातें बुधवार को दैनिक जागरण के हेलो डाक्टर कार्यक्रम में पाठकों के सवालों का जवाब देते हुए जीएसवीएम मेडिकल कालेज के न्यूरो सर्जरी विभागाध्यक्ष डा. मनीष सिंह ने कहीं।

  • -आठ वर्ष पहले सिर पर चोट लगी थी। दवाएं लेने के बाद भी झटके आते हैं? प्रदीप बाजपेयी, विनायकपुर।

    दवाओं के बाद झटके आने का मतलब दवा की डोज कम है। जीएसवीएसएस पीजीआइ की न्यूरो सर्जरी ओपीडी में दिखा लें। खून की जांच कराने के बाद दवा की डोज बढ़ाई जाएगी।

  • दो माह पहले सिर पर चोट लगने के बाद से बेटी बोलती नहीं, चुपचाप रहती है? लक्ष्मी शुक्ला, कल्याणपुर।

    मनोरोग विशेषज्ञ से काउंसलिंग कराकर समस्या की मुख्य वजह जानना जरूरी है। इसके बाद ही इलाज होगा।

  • 11 साल पहले रीढ़ में चोट लगी थी। इसके बाद से कमर के नीचे के हिस्से में हरकत नहीं है? रोहन पांडेय, धनकुट्टी।

    रीढ़ की हड्डी और स्पाइनल कार्ड की स्थिति जानना जरूरी है। एक बार जीएसवीएसएस पीजीआइ में पहुंचकर परामर्श ले लें।

  • सिर पर चोट के बाद से चक्कर आते हैं और बेहाशी जैसी स्थिति रहती है? प्रदीप त्रिपाठी, नरवल।

    चोट लगने के बाद कई बार खून के थक्के बन जाते हैं जो आकार में बढ़ते जाते हैं। कई बार सोडियम का स्तर कम होने पर भी दिक्कत होती है। एक बार आकर दिखा लें।

  • दो दिन पहले बेड से गिर गए थे, सिर में दर्द रहता है? नीलिमा, किदवई नगर।

    उल्टी, चक्कर, झटके या कमजोरी जैसी समस्या नहीं हुई, इसलिए घबराएं नहीं।

  • पीठ में करंट की तरह दर्द उठता है? रजनीकांत बाजपेई, श्याम नगर।

    अगर सीधे लेटने पर दर्द होता है तो गंभीर बात है। एक बार जीएसवीएसएस पीजीआइ में आकर चेकअप और जांच करा लें।

  • पांच माह पहले छत से गिरने से कमर-पैर में चोट लगी थी, अब जलन होती है? रमेश चंद्र शर्मा, काकादेव।

    एमआरआइ कराना पड़ेगा। इससे ही असली वजह पता चलेगी।

  • चार माह पहले सिर में चोट में चोट लगी थी, अब दर्द रहता है? राजेश दुबे, श्याम नगर।

    चोट के बाद कई बार सिर में पानी भर जाता है, जिससे दर्द हो सकता है। सीटी स्कैन जांच करानी पड़ेगी।

  • तीन माह पहले स्कूटर से गिरने के बाद से गर्दन में दर्द रहता है? अशोक तिवारी, देव नगर।

    बिना देरी किए डाक्टर को दिखाएं। गर्दन लगातार हिलाते-डुलाते रहने से मेरुदण्ड भी क्षतिग्रस्त हो सकता है। गर्दन का एक्स-रे जरूर कराएं।

  • फिसलने से पीठ में चोट लगी थी। अब दर्द रहता है, दवा से भी आराम नहीं मिल रहा? पुष्पा, शास्त्री नगर।

    एक बार न्यूरो या स्पाइन सर्जन को जरूर दिखा लें। रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर हो सकता है।

  • एक साल का बेटा बेड से गिर गया था, क्या सीटी स्कैन कराना पड़ेगा? आकांक्षा सिंह, जरौली।

    अगर बच्चे को बेहोशी, झटके या फिर किसी अंग में कमजोरी हो तो ही सीटी स्कैन कराएं। बेहतर होगा कि जीएसवीएसएस पीजीआइ में आकर दिखा लें।

  • दो साल पहले सिर में चोट लगी थी, अब नाक से पानी आने लगा है? मोहित गुप्ता, कर्रही।

    दिमाग का पानी लीक कर रहा है, जो नाक के रास्ते आ रहा है। जांच के बाद इलाज संभव है।

  • सड़क हादसे पर जीवन कैसे सुरक्षित कर सकते हैं? संतोष जालान, किदवई नगर।

    यह चोट के प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करता है। अगर रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क में चोट है तो पूरी सतर्कता बरतते हुए घायल को अस्पताल पहुंचाएं।

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट