कानपुर, जेएनएन। स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा है कि देश आजाद होने के बाद जनसंख्या तेजी से बढ़ी और उसके साथ गंदगी भी उसी रफ्तार से बढ़ी। लेकिन, इस गंदगी के नियोजन के लिए कोई काम नहीं हुआ, जिससे आज संचारी बीमारी फैल रही हैं। कहा, जब स्वस्थ्य भारत से ही समृद्ध भारत होगा, इसके लिए स्वच्छता जरूरी है। वह सोमवार को सरसौल स्थित सीएचसी में फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम का शुभारंभ कर रहे थे। उन्होंने औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना के साथ लोगों को सामूहिक भागीदारी से अभियान को सफल बनाने की शपथ दिलाई।

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि मच्छर जनित व संचारी रोगों को निष्प्रभावी बनाने के लिए सबसे पहले स्वच्छता अभियान को अपनाना होगा। फाइलेरिया उन्मूलन के लिए दवाओं के साथ जनजागरुकता जरूरी है। फाइलेरिया उन्मूलन अभियान प्रदेश में 25 नवंबर से 15 दिसंबर तक चलाया जाएगा। स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर बच्चों, बड़ों व वृद्धजनों को दवा खिलवाएंगे। कहा, साल दर साल संचारी रोगों की चपेट में आकर मरने वाले लोगों की मृत्यु दर में सरकार कमी ला रही है। पिछले साल डेंगू से 42 लोगों की मौत हुई थी, वहीं इस साल यह संख्या 22 है।

कार्यक्रम में औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि स्वस्थ नागरिक से ही स्वस्थ समाज और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण होगा। कमिश्नर सुधीर एम बोबडे ने कहा कि सभी विभागों के सामूहिक प्रयास से ही फाइलेरिया उन्मूलन अभियान को सफल बनाएंगे। यहां पर अपर निदेशक डॉ. नुपुर रॉय, डॉ मिथलेश चतुर्वेदी निदेशक संचारी रोग वीबीडी उत्तर प्रदेश, अपर निदेशक वीपी सिंह, डॉ आरपी यादव, डॉ अशोक शुक्ला व चिकित्सा अधीक्षक एसएल वर्मा मौजूद रहे।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस