हमीरपुर, जेएनएन। करीब 24 वर्ष पूर्व मुख्यालय में हुए सामूहिक हत्याकांड के सजायाफ्ता को दो दिन बाद जिला जेल से वाराणसी सेंट्रल जेल भेजा गया। छह सप्ताह की पैरोल खत्म होने के बाद सजायाफ्ता ने सोमवार को कोर्ट में सरेंडर किया था। कड़ी सुरक्षा के बीच जेल प्रशासन द्वारा गुरुवार सुबह उसे रवाना किया गया।

बीते 26 जनवरी 1997 को मुख्यालय के रमेड़ी मोहल्ला निवासी राजीव शुक्ला के भाई व भतीजे समेत कुल पांच लोगों की सामूहिक हत्या की गई थी। जिसमें पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल समेत नसीम खां, डब्बू सिंह, रघुवीर सिंह, श्याम सिंह, साहब सिंह, रुक्कू, उत्तम सिंह, भान सिंह, प्रदीप सिंह को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। नसीम खां को कोरोना संक्रमण के चलते हाईकोर्ट से छह सप्ताह की पैरोल स्वीकृत की गई थी। नसीम की ओर से खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए पैरोल की अवधि बढ़ाने की मांग की गई थी। हाई कोर्ट ने अवधि बढ़ाने की मांग को खारिज कर सात दिन के अंदर नसीम को सरेंडर करने के आदेश दिए गए थे। जिस पर सोमवार को नसीम ने अपर सत्र न्यायालय कोर्ट नंबर एक में सरेंडर किया था। जिसके बाद उसे दो दिन तक जिला कारागार में रखा गया और गुरुवार सुबह करीब छह बजे उसे कड़ी सुरक्षा के साथ वाराणसी स्थित सेंट्रल जेल भेज दिया गया। जेलर रामरतन यादव ने बताया कि बंदी के साथ एक दारोगा व चार सशस्त्र सिपाहियों को सुरक्षा के लिए भेजा गया है।

 

Edited By: Akash Dwivedi