कानपुर, जेएनएन। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्र को राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (नीट-2020) में सॉल्वर गैंग के साथ गिरफ्तार होने पर निलंबित कर दिया गया है। छात्र संभाग (स्टूडेंट सेक्शन) प्रभारी की रिपोर्ट पर उसे हॉस्टल (बीएच-3) से भी निष्कासित कर दिया गया है। कार्रवाई से दूसरे छात्रों में खलबली है।

जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. आरबी कमल ने बताया कि एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्र अवध बिहारी का नाम सॉल्वर गैंग में शामिल होने की जानकारी मिली है। वह मिर्जापुर जिले का निवासी है। उसके एमबीबीएस के फाइनल एग्जाम फरवरी 2021 में होने हैं। वह पढऩे में भी अच्छा था। उसकी किसी विषय में सप्लीमेंट्री नहीं लगी है। मेधावी होने के बाद भी ऐसे चक्कर में कैसे पड़ गया, कुछ बता नहीं सकते हैं। निलंबन के साथ उसे हाॅस्टल से भी निष्कासित कर दिया गया है।

डीजीएमई को भेजी रिपोर्ट

प्राचार्य ने आरोपित छात्र पर कार्रवाई कर पूरी रिपोर्ट महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा (डीजीएमई) को भी भेजी है। उनसे आगे की कार्रवाई के लिए मार्गदर्शन भी मांगा है।

बंद चल रहीं कक्षाएं

प्राचार्य प्रो. कमल ने बताया कि अभी कक्षाएं नहीं चल रही हैं। इसलिए कक्षाओं में रोक लगाने का कोई औचित्य नहीं है। पुलिस व प्रशासन से अभी छात्र के सॉल्वर गैंग में शामिल होने की कोई लिखित या मौखिक सूचना नहीं मिली है। समाचार के आधार पर ही कार्रवाई की गई है।

कोचिंग हब से जुड़े तार

शहर के कोचिंग हब से भी तार जुड़े होने की चर्चा कॉलेज में दिनभर रही। मेडिकल कॉलेज के शिक्षकों का कहना है कि कोचिंग संचालक मोटी रकम देकर मेधावी छात्रों को अपने जाल में फंसाते हैं। उन्हें सॉल्वर के रूप में इस्तेमाल कर दूसरे छात्रों को पास कराते हैं।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस