कानपुर, जागरण संवाददाता। चोरी उसपर सीना जोरी यह कहावत गोविंद नगर पुलिस पर सटीक बैठती है। गोविंद नगर थाने की जीप के चालक ने बाइक सवार छात्रों को पहले टक्कर मारी उसके बाद छात्रों को पकड़कर थाने ले गए। जहां दोनों छात्रों दारोगा ने अपराधियों की तरह बंधक बनाकर पीटा। एक छात्र के शरीर पर नीले काले निशान उसके साथ हुई बर्बरता की कहानी बयां कर रहे हैं।

स्वजन दोनों छात्रों को लेकर पुलिस आयुक्त से मिलने गए। जहां स्वजन ने दारोगा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। पुलिस आयुक्त ने दारोगा को लाइन हाजिर किया है। एचआइजी कालोनी बर्रा दो निवासी संगीता गोयल ने बताया कि उनका बेटा अभिषेक गोयल डीबीएस कालेज से बीएससी की पढ़ाई कर रहा है। मंगलवार को उनके छोटे बेटे आकाश का जन्मदिन था। जिस पर बड़ा बेटा अभिषेक पड़ोस में रहने वाले अपने दोस्त नमन आर्य के साथ गोविंद नगर से पिज्जा लेने गया था।

गोविंद नगर में थाने की जीप की ने बेटे की गाड़ी में टक्कर मार दी । दारोगा जितेंद्र बहादुर सिंह ने विरोध पर गाली गलौज करते हुए पकड़ लिया। आरोप है छात्रों को गोविंद नगर थाने ले जाकर अपराधियों की तरह बेरहमी से पीटा और थर्ड डिग्री डी जिससे बेटे के शरीर पर चोटों के निशान साफ नजर आ रहे हैं। काफी देर तक बेटे के न लौटने पर जब फोन किया तो किसी भी पुलिसकर्मी ने फोन उठाकर घटना की जानकारी देना उचित नहीं समझा।

बाद में किसी तरह दोनों के गोविंद नगर थाने में होने की जानकारी हुई। वहां पहुंचने पर पुलिस ने उन लोगों को अंदर नहीं जाने दिया ढाई घंटे बाद दोनों को पुलिस ने छोड़ा। बुधवार को स्वजन दोनों छात्रों को लेकर पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे । जहां स्वजन ने पुलिस आयुक्त से रतनलाल नगर दारोगा जितेंद्र बहादुर सिंह के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

दारोगा जितेंद्र बहादुर पर गंभीर आरोप हैं। जांच प्रभावित न हो इसके लिए। दारोगा को लाइन हाजिर किया गया है।

बीपी जोगदण्ड, पुलिस आयुक्त

Edited By: Prabhapunj Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट