जागरण संवाददाता, कानपुर : देश की हर वीवीआइपी ट्रेन में हीरे-सोने के जेवरात पार करने के साथ इंटरनेशनल फ्लाइट में हाथ मारने वाले अंतरराष्ट्रीय चोर से शहर के सराफ हीरे-सोने के आभूषण खरीद रहे थे। इसका खुलासा होने पर मध्यप्रदेश की जीआरपी टीम अंतरराष्ट्रीय चोर को लेकर शहर में तीन दिन से डेरा डाले है। टीम चार सराफ की दुकानों पर छापेमारी कर चुकी है।
टीम ने चोरी का माल खरीदने वाले तीन सराफ को पकड़ा था, जिन्हें सबूत के अभाव में छोड़ दिया। हालांकि मुख्य आरोपित की तलाश में छापेमारी कर रही है, जो घर व दुकान पर ताला लगाकर फरार है। मूलरूप से पंजाब निवासी रघु खोसला काफी समय से पत्नी और बच्चों के साथ गाजियाबाद व दिल्ली के बार्डर पर लोनी में किराये पर रह रहा है। कई प्रदेशों की पुलिस के रिकार्ड में वह 'हाई फ्लायर थीफ' के नाम से दर्ज है। एसी ट्रेनों में सफर करने के दौरान वह तमाम वारदातों को अंजाम दे चुका है। खासतौर से उसके निशाने पर महिला यात्री होती हैं। मप्र के रतलाम स्टेशन पर भी उसने कई वारदात कीं।
जीआरपी ने 22 सितंबर को उसे दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था। दिल्ली, मुंबई, पंजाब, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश में चलती ट्रेन में करोड़ों के हीरे व सोने के जेवरात चोरी कर चुके रघु खोसला को रिमांड पर लेकर जीआरपी तीन दिन से नयागंज, चकेरी, कल्याणपुर व गोविंदनगर में छापेमारी कर रही है। शुक्रवार को रतलाम (मप्र) की जीआरपी पुलिस ने मुख्य संदिग्ध धु्रव अग्रवाल की नयागंज की ज्वैलरी शॉप व बंगाली मोहाल के नारियल बाजार स्थित उसके घर पर दबिश दी लेकिन दोनों जगह ताला मिला।
कोतवाली एसएसआइ रेव सिंह ने बताया कि सराफ धु्रव को पकड़ने के लिए मप्र जीआरपी की टीम आई है। उनके सहयोग के लिए थाने की टीम गई थी। वह दुकान व घर से ताला लगाकर फरार हो गया।
इंस्पेक्टर ने बताया
-रघु खोसला ने नयागंज के सराफ ध्रुव अग्रवाल को चोरी का सोना बेचने की जानकारी दी है। ध्रुव की तलाश में टीम ने दबिश दी लेकिन वह नहीं मिला। कुछ और सराफ के भी नाम बताए हैं, उनके विषय में भी जानकारी की जा रही है। -केएल बरखड़े, इंस्पेक्टर जीआरपी रतलाम