कानपुर, जेएनएन। जिले में बुखार और डेंगू के केस थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। मौतों का सिलसिला निरंतर जारी है। बावजूद इसके स्वास्थ्य महकमा आंकड़ेबाजी में जुटा है। बिल्हौर के खाड़ामऊ गांव में सोमवार को बुखार से युवती की मौत हो गई। इसके साथ जिले में दस डेंगू के मरीज मिले हैं, उसमें चार शहरी क्षेत्र व छह ग्रामीण अंचल के हैं। कुल डेंगू पीडि़त 391 हो गए हैं, उसमें ग्रामीण क्षेत्र 299 और शहर के 92 हैं।

बिल्हौर के खाड़ामऊ गांव के सरोज कुमार कटियार की 21 वर्षीय बेटी रूपाली को 5 दिन से बुखार आ रहा था। पहले उसका अरौल में इलाज कराते रहे। उन्होंने बताया कि आराम नहीं मिला, बल्कि तबीयत खराब होती चली गई। सोमवार सुबह बेहतर इलाज के लिए कानपुर लेकर जा रहे थे। रास्ते में बेटी की सांसें थम गईं। सीएमओ डा. नैपाल सिंह ने बताया कि शहरी क्षेत्र में आवास विकास कल्याणपुर, चटाई मोहाल, बसंती नगर व ओम पुरवा में एक-एक डेंगू का मरीज मिला है। ग्रामीण क्षेत्र के बिल्हौर ब्लाक में देवकली व अरौल में एक-एक और मकनपुर में तीन डेंगू के मरीज मिले हैं। सरसौली के अमौली गांव में एक मरीज में डेंगू की पुष्टि हुई है। डेंगू के 349 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जबकि सक्रिय केस 42 हैं। शिविर लगाकर 161 सैंपल डेंगू जांच के लिए मेडिकल कालेज व उर्सला अस्पताल भेजे गए। उन्होंने बताया कि जो भी मरीज आ रहे है उनका इलाज डाॅक्टरों की देख-रेख में किया जा रहा है ज्यादातर मरीज दवा से ठीक हो जा रहे हैं। बाल रोग विभाग में आने वाले बच्चों का भी समय रहते इलाज हो रहा है। इससे पहले कल्याणपुर ब्लाक के कुरसौली गांव में डेंगू कहर मचा चुका है। पूरे गांव में विचित्र बुखार और डेंगू ने अपने पैर पसार दिए थे। जिसका असर अभी तक गांव से खत्म नहीं हुआ है। अभी भी गांव के कई लोग बुखार से पीड़ित हैं।

Edited By: Abhishek Agnihotri