हमीरपुर, जेएनएन। सुमेरपुर थानाक्षेत्र के पचखुरा बुजुर्ग में बहन के घर पर रह रहे भाजपा नेता की हत्या से सनसनी फैल गई। रात में धारदार हथियार से गला रेतकर उनकी हत्या कर दी गई, सुबह जानकारी होते ही घर के बाहर भीड़ एकत्र हो गई। पुलिस ने घटना की छानबीन शुरू की है, अभी तक हत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। घटनास्थल पर पहुंचे भाजपा नेताओं ने जल्द मामले के खुलासे की मांग की है।

बीस साल से बहन के घर पर रह रहा था

पचखुरा बुजुर्ग गांव में बहनोई श्याम सुंदर सिंह की हत्या के बाद करीब 20 वर्षों से बहन की देखरेख के लिए बांदा जनपद के मवई बुजुर्ग गांव निवासी 36 वर्षीय राकेश सिंह रह रहा था। मौजूदा में वह भाजपा का बूथ अध्यक्ष था। शनिवार को उसकी पत्नी रक्षाबंधन त्योहार के चलते बच्चों को लेकर मायके चली गई थी और वह घर पर अकेला था। रात में किसी समय धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी गई। सुबह समर्सिबल की वॉल लेने घर पहुंचे पड़ोसी ने चारपाई में राकेश को खून से लथपथ पड़े देखा तो सन्न रह गया। जानकारी होते ही पड़ोसियों की भीड़ एकत्र हो गई और पुलिस भी पहुंच गई।

रात में आया था कोई अज्ञात साथी

पुलिस के अनुसार शनिवार देर रात भाजपा नेता के घर पर अज्ञात साथी आया था और खाना खाने के बाद रात में रुक गया था। आशंका है कि उसी ने नुकीले धारदार हथियार से भाजपा नेता की हत्या की और फरार हो गया है। घटना की जानकारी मिलते ही पत्नी और परिजनों में कोहराम मच गया। मौके पर पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा, अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह व सीओ सदर अनुराग सिंह समेत सुमेरपुर थानाध्यक्ष गिरेन्द्र पाल सिंह फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। फॉरेसिंक टीम ने साक्ष्य एकत्र किए और कानपुर से डॉग स्क्वायड टीम को बुलवाया गया।

भाजपा नेताओं ने जताया आक्रोश

भाजपा के बूथ अध्यक्ष की हत्या की जानकारी होते ही भाजपा जिलाध्यक्ष संत विलास शिवहरे, हमीरपुर नगर पालिका अध्यक्ष कुलदीप निषाद भी पार्टी के अन्य पदाधिकारियों के साथ मौके पर पहुंच गए। भाजपा नेताओं ने हत्या पर आक्रोश जताते हुए पुलिस से घटना के जल्द खुलासे की मांग की। शिवहरे ने कहा राकेश सिंह पचखुरा बुजुर्ग गांव का बूथ अध्यक्ष था, जिसकी हत्या से भाजपाइयों में शोक है। घटना को अंजाम देने वालों को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जाए। अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि रात में कोई मिलने आया था, जिसकी तलाश कराई जा रही है।

बहनोई के बाद भांजे की भी हो गई थी हत्या

बीस साल पहले राकेश के बहनोई की हत्या के बाद उसके एक भांजे की भी रंजिशन हत्या कर दी गई थी। इसके कुछ दिन बाद दूसरे भांजे ने भी आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद से बहन की जमीन और घर की देखभाल के लिए ही राकेश रहने लगा था। उसकी पत्नी और बहन का रो-रोकर बुरा हाल है। पूरे गांव में वारदात को लेकर गांव वालों में चुप्पी है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस