कानपुर देहात, जेएनएन। नई दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर शुक्रवार की सुबह मालगाड़ी डिरेल हो गई और कई 24 वैगन पलट गए। इससे करीब सौ मीटर तक ट्रैक उखड़ गया है और वैगन आपस में भिड़ने के बाद पांच वैगन उछलकर किनारे तालाब में जा गिरे हैं। इससे नई दिल्ली हावड़ा की अप और डाउन लाइन पर ट्रेनों का संचालन बंद हो गया है। हादसा अंबियापुर स्टेशन के पास हुआ है।डीएफसी ट्रैक पर वैगन गिरने से ओवर हेड इलेक्ट्रिक लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। इससे डीएफसी ट्रैक पर भी मालगाड़ियों का संचालन फिलहाल बंद कर दिया गया है। हादसे की जानकारी के बाद डीआरएम मोहित चंद्रा भी पहुंच गए और ट्रैक मरम्मत कार्य का जायजा लिया।

अभी ट्रैक से वैगन हटवाने का काम चल रहा है। इसके लिए क्रेन घटनास्थल पर पहुंच गई है। डीआरएम ने घटनास्थल पर कर्मचारियों और आसपास रहने वाले लोगों से जानकारी ली है। उन्होंने बताया है कि रेलवे का प्रयास है कि शनिवार सुबह तक ट्रैक पर ट्रेन संचालन बहाल हो जाए।

नई दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर  शुक्रवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे खाली वैगन लेकर मालगाड़ी कानपुर की ओर जा रही थी। अंबियापुर रेलवे स्टेशन के पास तेज रफ्तार मालगाड़ी अचानक पटरी से उतरी और करीब सौ मीटर से ज्यादा घिसटती चली गई। इससे सौ मीटर के दायरे में ट्रैक उखड़ गए, चालक ने मालगाड़ी को रोकने का प्रयास किया तो वैगन आपस में टकराते चले गए। डिरेल हुई मालगाड़ी से तीन वैगन दिल्ली-हावड़ रेल लाइन की पटरियों पर जा गिरे, वहीं पांच वैगन दूसरी ओर तालाब में जा गिरे।

हादसे के बाद चालक व गार्ड ने अंबियापुर स्टेशन पर सूचना दी तो कंट्रोल को अवगत कराते हुए नई दिल्ली हावड़ा रेल रूट पर अप व डाउन लाइन पर ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया गया। सूचना पर रेलवे स्टाफ और तकनीकी टीम घटनास्थल पर पहुंच गई है। कानपुर और टुंडला से भी रेलवे की तकनीकी टीम पहुंच रही है। सूचना मिलते ही रेलवे अफसर भी मौके पर पहुंच रहे हैं। अंबियापुर स्टेशन मास्टर पवन कुमार ने बताया कि मालगाड़ी निकलने के समय तेज आवाज आ रही थी। वाकी टाकी से चालक को सूचित किया गया लेकिन तबतक हादसा हो गया और 24 वैगन पलट गए। इंजन व कुछ डिब्बे ट्रैक पर आगे की ओर निकल गए थे।

इटावा में भी डीएफसी ट्रैक पर दो बार हुए हादसे

बीते एक माह के अंदर इटावा में भी डीएफसी ट्रैक पर मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो चुकी है। डेडिकेटेड फ्रेट कारीडोर के तहत टुंडला से कानपुर भाऊपुर तक ट्रैक बिछाने का प्रथम चरण का कार्य पूरा होने पर मालगाड़ी का संचालन शुरू कराया गया था। इसके बाद से लगाता हादसों का सिलसिला जारी है। बीते दिनों इटावा में मालगाड़ी के डिरेल होने से ट्रैक उखड़ गया था और करीब एक सप्ताह तक ट्रैक पर संचालन बंद रहा था।

यह भी पढ़ें :- शताब्दी एक्सप्रेस निरस्त, तेजस और वंदे भारत समेत कई ट्रेनों के रूट बदले, जानिए- कौन सी ट्रेन किधर हुई डायवर्ट

Edited By: Abhishek Agnihotri