बांदा, जेएनएन। Scam Revealed in Banda एक तरफ जल संरक्षण को लेकर सरकार जागरुकता अभियान चला रही है। इसके तहत तालाबों को कब्जा मुक्त कराया जा रहा है।वहीं दूसरी तरफ बिसंडा नगर पंचायत अध्यक्ष ने तालाब की जमीन पर ही खेल कर दिया। पहले कब्जा कर मकान बनवाया, बाद में उसका पत्नी के नाम पर बैनामा कर दिया। ग्रामीणों की शिकायत पर जिला प्रशासन ने जांच कराई तो मामला सही निकला। राजस्व निरीक्षक की तहरीर पर तालाब जमीन बेचने के आरोप में नपं अध्यक्ष व उनकी पत्नी के खिलाफ बिसंडा थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। थाना प्रभारी ने बताया कि सरकारी संपत्ति क्षति निवारण अधिनियम समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। एसडीएम अतर्रा के निर्देश पर राजस्व निरीक्षक ने तहरीर दी है।

ये है मामला: तहसील क्षेत्र के बिसंडा के मोहल्ला लखमी थोक में देविन तालाब है। जिसका क्षेत्रफल 0.987 हेक्टेयर रकबा था। लगभग एक दशक पूर्व इस तालाब के भीटे की जमीन में वर्तमान नगर पंचायत अध्यक्ष गयाचरण निर्मल ने अवैध तरीके से कब्जा कर लिया। अवैध कब्जा कर देविन तालाब के भीटे की जमीन मकान का निर्माण कराया। धोखाधड़ी करते हुए पंचायत अध्यक्ष ने अपनी पत्नी शिवसखी के नाम बैनामा कर दिया था।

ग्रामीणों ने की थी शिकायत: ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन समेत जनपद के उच्चाधिकारियों से शिकायत की थी। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर फरवरी माह में तत्कालीन एसडीएम अतर्रा ने राजस्व निरीक्षक व हल्का लेखपाल की टीम गठित कर जांच कराई थी। गठित टीम द्वारा जांच में दोषी पाए जाने पर एसडीएम अतर्रा सौरभ शुक्ला ने राजस्व निरीक्षक बिसंडा को आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए। आरआइ बिसंडा वैभव गुप्ता ने बिसंडा पुलिस को तहरीर देते हुए चेयरमैन गयाचरण निर्मल व पत्नी शिवसखी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया है।

इनका ये है कहना

तहरीर के आधार पर चेयरमैन व उसकी पत्नी के विरुद्ध 3/5 सरकारी संपत्ति क्षति निवारण अधिनियम समेत 419, 420, 467, 468 व 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच कर कार्रवाई की जाएगी। - नरेंद्र प्रताप सिंह, थानाध्यक्ष बिसंडा

Edited By: Shaswat Gupta