कानपुर, जेएनएन। केंद्रीय जनजातीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा है कि देश के 39 फीसद भूभाग पर बसे लोगों का जीवन बेहतर बनाने के लिए वनवासी आश्रम काम कर रहा है। भारत केवल एक भूभाग ही नहीं है बल्कि भारत एक जीवंत आत्मा है, यह भारत माता है। रविवार को वह कानपुर में 22वीं राष्ट्रीय वनवासी क्रीड़ा प्रतियोगिता 2019 के शुभारंभ के मौके पर देश भर से आए खिलाडिय़ों से मुखातिब हुए।

उन्होंने कार्यक्रम में कहा कि केंद्र सरकार और उनका मंत्रालय वनवासी आश्रम के सभी कार्यों में सहयोग के लिए हमेशा तैयार है। ऐसे आयोजन कई मामलों में खास होते हैं, प्रतियोगिता में आए लोगों के लिए देश को करीब से जानने और समझने का मौका है। इससे देश की संस्कृति को जानने का अवसर मिलता है।

कार्यक्रम में उप्र के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने खिलाडिय़ों को प्रेरित करते हुए कहा कि खेल में हार और जीत दोनों होते हैं। महत्वपूर्ण केवल जीत नहीं बल्कि खेलना है। उन्होंने इस विशाल आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि वनवासी आश्रम पूरे देश में अनूठा काम कर रहा है।

देश भर से आए वनवासी क्रीड़ा प्रतियोगिता में आए खिलाड़ी

पंडित दीनदयाल उपाध्याय सनातन धर्म विद्यालय में आयोजित वनवासी क्रीड़ा प्रतियोगिता में देश भर से खिलाड़ी आए हैं। 22 वीं वनवासी क्रीड़ा प्रतियोगिता में देश के 40 प्रांतों के करीब 800 खिलाड़ी तीरंदाजी व कबड्डी में हिस्सा लेंगे। मीडिया प्रभारी सुमित श्रीवास्तव के मुताबिक प्रतियोगिता में पूर्व ओलंपियन संजीव कुमार खिलाडिय़ों के हुनर को परखेंगे। इस प्रतियोगिता से हर बार कम आयुवर्ग में खिलाड़ी को चुनकर उन्हें राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में पर्दापण करने के लिए तैयार किया जाता है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप