कानपुर देहात, जेएनएन। कोतवाली के मांवर गांव के पास सोमवार को सेंगुर नदी में एक बच्ची के शव को प्रवाहित करते समय पशु व्यापारी मोहित डूब गया। पुलिस, गोताखोर व दमकल कर्मी लगे पर देरशाम तक जानकारी न हो सकी। उधर व्यापारी का कोई पता न चलने से परिवार का बुरा हाल है।

अकबरपुर थाना क्षेत्र के मैरकपुर गांव के राजेश कुमार लालपुर पातेपुर में रहते हैं। सोमवार को सुबह राजेश की एक माह की पुत्री की मौत हो गई थी। उसके शव को सेंगुर नदी में प्रवाहित करने के लिए राजेश कुमार के साथ उसके गांव मैरकपुर का पशु व्यापारी 22 वर्षीय मोहित कुमार अन्य लोगों के साथ भोगनीपुर कोतवाली के मांवर गांव के पास गया था।  शव को सेंगुर के पानी में प्रवाहित करने के लिए राजेश कुमार के साथ ही मोहित कुमार व कुछ अन्य लोग सेंगुर नदी के पानी के अंदर गए थे। इस दौरान मोहित गहरे पानी में जाकर डूब गया। अन्य लोग पानी से बाहर निकल आए। काफी देर तक मोहित के पानी के अंदर से न निकलने पर परिवार को सूचना दी। पिता राजनारायन, मां श्यामसुंदरी, बहनें काजल व सपना अन्य लोगों को साथ लेकर घटनास्थल पर पहुंचे। भोगनीपुर कोतवाल राजेश कुमार सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। जिसके बाद सूचना कर फायर कर्मियों को भी बुलाया गया और नदी में रस्सी के माध्यम से कांटा डालकर मोहित को खोजने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। कुछ देर बाद सीओ प्रभात कुमार भी पहुंचे व मूसानगर व कालपी से गोताखोरों को बुलाकर तलाशी अभियान शुरू किया गया। देरशाम तक उसका कुछ पता न चला। सीओ ने बताया कि अब मंगलवार को फिर से तलाश कराई जाएगी।

पिता ने लगाया डुबोने का आरोप: मोहित के डूबने के मामले में उसके पिता राजनारायन व मां रामसुंदरी ने साथ में गए एक व्यक्ति पर पुत्र को पानी में डुबाने का आरोप लगाया। मोहित के माता पिता का आरोप है कि गांव के ही एक व्यक्ति से उसकी पुरानी रंजिश है उसी ने मोहित को पानी में डुबो दिया है। 

Edited By: Abhishek Agnihotri