संवाद सहयोगी, घाटमपुर : कन्या प्राथमिक विद्यालय पतारा के पुराने भवन को कुछ लोगों ने शुक्रवार सरेशाम जेसीबी से ढहा दिया। पतारा के पैतृक निवासी शहर के एक भाजपा पार्षद के परिजन विद्यालय परिसर की जमीन उनके पूर्वजों की होने का दावा कर रहे हैं। उन्होंने जांच करने पहुंचे अधिकारियों को कुछ दस्तावेज सौंपकर मलबा उठा ले जाने को कहा।

कस्बा पतारा स्थित ज्वाला देवी मंदिर के पास वर्ष 1964 में तत्कालीन ग्राम प्रधान कुंवर प्रबल प्रताप ¨सह के कार्यकाल में कन्या प्राथमिक विद्यालय भवन का निर्माण कराया गया था। पूर्व प्रधान गया प्रसाद त्रिवेदी ने बताया कि यहां पर कक्षा एक से पांच तक की पढ़ाई होती थी। विद्यालय को वर्ष 2003 में सीएचसी के सामने बने कन्या प्राथमिक विद्यालय के नवनिíमत भवन में शिफ्ट कर दिया गया। शुक्रवार शाम बारिश के बीच जेसीबी लेकर पहुंचे कुछ लोग विद्यालय भवन को एक घंटे में ढहाकर चले गए। शनिवार सुबह जानकारी पर खंड विकास अधिकारी श्याम नारायण ¨सह व खंड शिक्षा अधिकारी नीरज उमराव ने मौके पर पहुंचकर जांच की। इस दौरान वहां पहुंचे प्रभाकर ¨सह, सुधाकर ¨सह, अनूप ¨सह व संजय ¨सह आदि ने उर्दू में लिखे कुछ दस्तावेज जांच अधिकारियों को सौंपे और विद्यालय की भूमि अपने पूर्वजों की होने का दावा किया। दावा करने वाले कानपुर नगर निवासी भाजपा पार्षद यशपाल ¨सह के भतीजे हैं। उन्होंने बताया कि वह लोग पतारा में ज्वाला देवी मंदिर का निर्माण करा रहे हैं। यह जमीन उसी ट्रस्ट की है। खंड शिक्षा अधिकारी ने बताया कि उन्होंने मुकदमा पंजीकृत कराने के लिए तहरीर कोतवाली में दी है। कोतवाली इंस्पेक्टर दिलीप बिंद के मुताबिक ट्रस्ट के खिलाफ तहरीर दी गई है। मामले की जांच की जा रही है। पार्षद यशपाल सिंह का कहना है कि जिस भूमि पर विद्यालय था वह मंदिर की है। विद्यालय भवन जर्जर हो चुका था। बेसिक शिक्षा विभाग खुद की भूमि पर भवन बना चुका है। ऐसे में मंदिर निर्माण के लिए पुराने भवन को तोड़ा गया है। कुछ लोग साजिश के तहत विवाद कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप