Move to Jagran APP

Irfan Solanki: सपा व‍िधायक इरफान सोलंकी के कार्यालय के पास अज्जन का दो मंजिला शापिंग कांप्लेक्स होगा जब्‍त

Irfan Solanki महाराजगंज जेल में बंद सपा व‍िधायक इरफान सोलंकी के मददगारों की संपत्‍त‍ि जब्तीकरण में शामिल करने के लिए पुल‍िस दस्‍तावेज खंगालने में जुटी है। बता दें क‍ि अज्जन उर्फ एजाज फतेहपुर के कोतवाली थाने का हिस्ट्रीशीटर है।

By Jagran NewsEdited By: Prabhapunj MishraPublished: Thu, 23 Mar 2023 03:28 PM (IST)Updated: Thu, 23 Mar 2023 03:28 PM (IST)
Irfan Solanki: सपा व‍िधायक इरफान सोलंकी के मददगारों की संपत्‍त‍ि जब्‍तीकरण के ल‍िए पुल‍िस खंगाल रही दस्‍तावेज

कानपुर, जागरण संवाददाता। महाराजगंज जेल में निरुद्ध सपा विधायक इरफान सोलंकी और उनके मददगारों की संपत्तियों को तलाश रही पुलिस टीम को रिजवी रोड स्थित विधायक के कार्यालय के पास ही फतेहपुर के हिस्ट्रीशीटर अज्जन का दो मंजिला शापिंग काप्लेक्स होने की जानकारी हुई है। पुलिस ने इसे संपत्ति को जब्तीकरण में शामिल करने के लिए कांप्लेक्स के दस्तावेज जुटाने शुरू कर दिए हैं।

loksabha election banner

दस्तावेज मिलने के बाद पुलिस मूल्यांकन करा आगे की कार्रवाई करेगी। फतेहपुर के कोतवाली क्षेत्र के चौधरयाना मोहल्ला निवासी अज्जन उर्फ एजाज की संपत्तियों को खंगाला जा रहा है। अज्जन की रिजवी रोड में सपा विधायक इरफान सोलंकी के पास ही दो मंजिला शापिंग कांप्लेक्स होने की जानकारी हुई है। टीम ने वहां जाकर सत्यापन किया तो पता चला कि इस कांप्लेक्स में बेसमेंट में सात दुकानें, ग्राउंड फ्लोर पर 15, पहली मंजिल पर 15 दुकानें हैं जबकि दूसरी मंजिल अभी खाली पड़ी है।

केडीए से पुलिस ने इस संपत्ति का ब्योरा मांगा है। विकास प्राधिकरण की रिपोर्ट आने और रजिस्ट्री की कापी मिलने के बाद पुलिस इसे जब्तीकरण में शामिल करेगी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस कांप्लेक्स में अज्जन पर्दे के पीछे से होने की जानकारी मिल रही है। कुछ लोगों से इस बारे में बातचीत करके जानकारी जुटाई गई तो शाहिद अमान द्वारा दुकानदारों से लिखा पढ़ी करने की जानकारी हुई है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि फतेहपुर से हिस्ट्रीशीटर होने के चलते वह इस कांप्लेक्स में पर्दे के पीछे रहकर लाभ उठा रहा है।

यह है अज्जन की हिस्ट्रीशीट

अज्जन उर्फ एजाज फतेहपुर के कोतवाली थाने का हिस्ट्रीशीटर है। उसके खिलाफ पहला मुकदमा वर्ष 1994 में 145/94 घर में घुसकर मारपीट, जानमाल की धमकी देने की धाराओं में दर्ज हुआ था। उसके बाद वर्ष 2004 में 112/04 मारपीट की धाराओं का, इसी वर्ष 395/04 बलवा, मारपीट, हत्या का प्रयास की धारा का, वर्ष 2015 में 228/15 घर में घुसकर मारपीट, धमकी व अन्य धारा का, वर्ष 2017 में 244/17 में लूट, धमकी, वर्ष 2021 में 74/21 मारपीट, जानमाल की धमकी, वर्ष 2022 में 431/22 धर्म, जाति के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने और सद्भाव बिगाड़ना, धर्मिक भावनाओं को आहत करना, मारपीट, जानमाल की धमकी के कुल सात मुकदमे दर्ज हैं।

हिस्ट्रीशीट में दर्ज हैं 11 साथियों के नाम

अज्जन उर्फ एजाज की हिस्ट्रीशीट में मोहम्मद बज्जन, मोहम्मद रियाज उर्फ राजू, राहत उर्फ अयाज, जावेद, मोहम्मद हुमायूं, हसन अली, नफीस, शानू, मोहम्मद रेजा, चांद समेत अन्य 11 साथियों के नाम भी दर्ज किए गए हैं। वहीं संपत्तियों के नाम पर सिर्फ एक पक्का मकान और बाइक ही दर्ज है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.