कानपुर, जेएनएन। तीन तलाक बिल राज्यसभा में भी पास होने के बाद मुस्लिम महिलाओं ने खुशियां मनाईं। पटाखे छुड़ाए और एक दूसरे को मिठाई खिला प्रधानमंत्री का धन्यवाद अदा किया। जाजमऊ, चमनगंज, बेकनगंज, बाबूपुरवा, बेगमपुरवा समेत दर्जनों क्षेत्रों में मुस्लिम महिलाओं ने जश्न मनाया ।

जाजमऊ में नाजिया सिद्दीकी के नेतृत्व में महिलाओं ने पटाखे छुड़ाए और मिष्ठान वितरण किया। उन्होंने कहा कि अब कोई भी शख्स अपनी बीवी को तीन तलाक देने से पहले तीन बार जरूर सोचेगा। उन्होंने कहा कि इस कानून से तलाक में कमी आएगी। राबिया खातून ने कहा कि लोग शादी भी बहुत सोच समझकर करेंगे। रुबीना ने कहा कि अदालत में तारीख पर तारीख मिलने से छुट्टी मिल जाएगी। अब तलाक देने वालों को सजा मिल जाएगी। नसरीन, आयशा, परवीन आदि मौजूद रहीं।

निकाह का फॉर्म बदलें 

मोहकम-ए-शरैया दारुल कजा ख्वातीन कोर्ट के संरक्षक हाजी मोहम्मद सलीस ने कहा कि काजी को चाहिए कि वह निकाह के फॉर्म में बदलाव लाएं और फॉर्म में ही लिख दें कि एक बार में तीन तलाक नहीं मान्य होगा ।

शरीयत के कानून पर ही अमल करेंगे 

शहरकाजी मौलाना रियाज हशमती ने कहा है कि राज्यसभा में तीन तलाक बिल तो पास हो गया लेकिन मुसलमान अल्लाह और उसके रसूल के बताए रास्ते पर ही अमल करेंगे । 

इनका ये है कहना

तलाक महल से तीन तलाक का मुद्दा उठाया गया था। अब सरकार ने कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं के साथ इंसाफ किया है ।

-मारिया अफजल, महिला शहरकाजी

तीन तलाक बिल में जो कमियां थीं, उसे दूर करने के बजाय ऐसे ही पास कर दिया। ऐसे में इस कानून का मिसयूज ज्यादा होगा। शौहर जेल चला जाएगा तो उसकी तलाकशुदा बीवी व बच्चों की कैसे ङ्क्षजदगी गुजरेगी, इसका कोई समाधान नहीं किया ।

- डॉ हिना जहीर, महिला शहरकाजी

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप