जेएनएन, कानपुर : कानपुर देहात के मैथा तहसील के मरहमताबाद में बनी हवाई पट्टी पर शुक्रवार सुबह पहली बार हवाई जहाज उतरा। यह ट्रायल लैंडिंग थी। तकनीकी विशेषज्ञों की मौजूदगी में करीब आधे घंटे तक रनवे पर ट्रायल चलता रहा। नागरिक उड्डयन विभाग और हवाई पट्टी बनाने वाली कार्यदायी संस्था के लोगों ने बारीकी से रनवे की गुणवत्ता परखी ताकि आकस्मिक स्थिति में कभी भी कोई हवाई जहाज यहां लैंडिंग कर सके।

नागरिक उड्डयन विभाग के उप निदेशक, सिविल इंजीनियर, प्रबल वशिष्ट तथा कार्यदायी संस्था राइट्स लिमिटेड के बलजीत ¨सह के साथ तीन क्रू मेंबर सात सीटर विमान के साथ नौ बजकर 15 मिनट पर नवनिर्मित मरहमताबाद हवाई पट्टी पर उतरे। एडीएम प्रशासन शिवशंकर गुप्ता, तहसीलदार मैथा राजीव उपाध्याय के अलावा अन्य अधिकारी रनवे पर मौजूद थे। फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस को भी मुस्तैद किया गया था। तकनीकी विशेषज्ञों ने रनवे पर लैंडिंग के बाद हवाई जहाज का करीब आधे घंटे तक मूवमेंट कराया। इसके बाद सभी लोग विमान से ही वापस लखनऊ रवाना हो गए।

बता दें, कन्नौज से सपा सांसद डिंपल यादव के संसदीय क्षेत्र का हिस्सा होने के कारण सपा शासन में इस हवाई पट्टी के निर्माण की वर्ष 2014 में मंजूरी मिली थी। 24.0 हेक्टेयर ग्राम समाज की जमीन अधिग्रहीत करके 2.4 किलोमीटर पर रनवे बनाया गया है। एडीएम प्रशासन शिवशंकर गुप्ता ने बताया कि हवाई पट्टी पर हवाई जहाज उतारने का ट्रायल रूटीन फ्लाइट के अलावा आकस्मिक स्थितियों में विमान उतारने के लिए किया गया है।

अचानक बना लैंडिंग ट्रायल का कार्यक्रम

हवाई पट्टी पर इस लैंडिंग ट्रायल का पहले से कार्यक्रम तय नहीं था। जिले के अफसरों के मुताबिक गुरुवार देर शाम ही प्रशासन को ट्रायल किए जाने की जानकारी दी गई थी। इसको लेकर सुबह नौ बजे तक सभी तैयारियां कर ली गई थीं। सफाई कर्मचारी लगाकर हवाई पट्टी की सफाई कराई गई। फायर ब्रिगेड, एंबुलेंस भी लगा दी गई थी।

सीएम के दौरे को लेकर ट्रायल तो नहीं!

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलों में आकस्मिक दौरे करने का ऐलान किया है। इस दौरान उनके साथ प्रमुख सचिव, डीजीपी से लेकर आला अफसरों के भी रहने की उम्मीद है। सीएम के साथ कई अधिकारी हेलीकाप्टर से नहीं पहुंच सकते, इसलिए विमान का उपयोग किया जा सकता है। अफसरों में सुगबुगाहट रही कि इसी उद्देश्य से मरहमताबाद रनवे पर विमान की लैंडिंग करा ट्रायल किया गया।

By Jagran