जासं, कानपुर : सर्दी का असर शुकवार को भी ट्रेनों पर दिखायी दिया। हालांकि दिन में धूप निकली लेकिन शाम को कोहरा होने से प्रमुख ट्रेनों समेत लंबी दूरी की 27 ट्रेनें प्रभावित रहीं। यह ट्रेनें तीन से पांच घंटे देरी से सेंट्रल स्टेशन आईं जिससे यात्री परेशान हुए। अधिकारियों के मुताबिक करीब एक हजार लोगों ने अपनी टिकट निरस्त करायी।

-----

तेजस के यात्रियों को मिलेगा हर्जाना

कानपुर सेंट्रल से होकर दिल्ली जाने वाली आइआरसीटीसी की कारपोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस दो घंटे देरी से दोपहर 2:24 बजे नई दिल्ली पहुंची जबकि वापसी में भी यह ट्रेन दो घंटे की देरी से गंतव्य तक पहुंची। आइआरसीटीसी के अधिकारियों के मुताबिक ट्रेन लेट होने के चलते यात्रियों को हर्जाना दिया जाएगा।प्रति यात्री 250 रुपये वापस मिलेंगे।गौरतलब हो कि आइआरसीटीसी एक घंटे की देरी पर 100 रुपये और दो घंटे या इससे अधिक की देरी पर 250 रुपये यात्रियों को वापस करती है।

-----

यह ट्रेनें हुईं लेट

दिल्ली से आने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस तीन घंटे की देरी से दोपहर एक बजे सेंट्रल स्टेशन पहुंची।आनंद विहार-जोगबनी सीमांचल एक्सप्रेस साढ़े तीन घंटे और जोगबनी-आनंद विहार सीमांचल एक्सप्रेस पांच घंटा देरी से आयी। गुवाहाटी-बाड़मेर एक्सप्रेस साढ़े पांच घंटे, नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस साढ़े चार घंटे, हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस छह घंटे, जम्मूतवी-संबलपुर एक्सप्रेस और महानंदा एक्सप्रेस चार घंटे, उड़ीसा संपर्कक्रांति एक्सप्रेस साढ़े चार घंटे, काशी-महाकाल एक्सप्रेस तीन घंटे और टूंडला-कानपुर मेमू सवा पांच घंटे की देरी से चली।

-----

कानपुर सेंट्रल-दुर्ग एक्सप्रेस में लगेगा अतिरिक्त एसी कोच

कानपुर : सेंट्रल स्टेशन से छत्तीसगढ़ के दुर्ग के बीच चलने वाली दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन संख्या 18203/38204 में एक एसी द्वितीय कोच जोड़ने का निर्णय रेलवे ने लिया है।दुर्ग से 15 मार्च से और कानपुर सेंट्रल से चलने वाली ट्रेन में 16 मार्च से कोच जुड़ जाएंगे।मुख्य जनसंपर्क अधिकारी डा. शिवम शर्मा ने बताया कि यात्रियों की मांग पर यह निर्णय लिया गया है।ट्रेन में एसी सेकेंड की कम सीटें हैं। जबकि एसी थर्ड श्रेणी के छह और स्लीपर के सात कोच हैं।जबकि एक कोच एसी फ‌र्स्ट कम सेकेंड कोच भी है।पहले इसमें एक ही एसी सेकेंड कोच था।

-----

सेंट्रल पर लगातार दूसरे दिन सर्दी से बुजुर्ग की मौत

कानपुर : गुरुवार को सेंट्रल स्टेशन के सिटी साइड स्थित पैसेंजर हाल में एक बुजुर्ग अचेतावस्था में लेटा था। शरीर से कोई हलचल न होने पर आसपास के वेंडरों ने सूचना दी। रेलवे की डाक्टर उर्वशी यादव नर्सिंग स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचीं। मेडिकल परीक्षण के बाद उसे मृत घोषित कर दिया गया। जीआरपी ने बताया कि बुजुर्ग के पास ऐसा कोई सामान या कागज नहीं मिला, जिससे उसकी शिनाख्त हो पाती। मृतक की उम्र 65 वर्ष के करीब बतायी गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

Edited By: Jagran