फतेहपुर, जेएनएन। फतेहपुर से लापता बांदा के बंदोबस्त अधिकारी दूसरे दिन सड़क किनारे बेहोशी की हालत में पड़े मिले। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर मोबाइल सर्विलांस लोकेशन की मदद से उन्हें ढूंढ निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गोरखपुर से बांदा आते समय वह फतेहपुर में लापता हो गए थे और उनका फोन बंद आने पर पत्नी ने पुलिस को सूचना दी थी।

मूलरूप से गोरखपुर के सूबा बाजार के रहने वाले विनोद वर्मा मौजूदा समय में बांदा जिले के चकबंदी विभाग में बंदोबस्त अधिकारी हैं। शुक्रवार को उनके लापता होने की सूचना के बाद पुलिस मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाकर लोकेशन ट्रेस करने में जुट गई थी और लेकिन देर रात तक कोई सफलता नहीं मिली थी। सुबह उनकी लोकेशन फतेहपुर के बहुआ बाजार के पास मिलने पर पुलिस ने तलाश शुरू की तो वह बाजार के पास सड़क किनारे बेहोशी की हालत में पड़े मिले। दरअसल, वह गोरखपुर अपने पैतृक निवास गए थे और गुरुवार की रात वह गोरखपुर से लखनऊ पहुंचे थे।

शुक्रवार सुबह आठ बजे फतेहपुर के रोडवेज बस अड्डे तक उनके मोबाइल की लोकेशन मिली, इसके बाद मोबाइल फोन बंद हो गया। मोबाइल स्विच ऑफ होने पर पत्नी सुषमा वर्मा को चिंता हुई तो वह बार बार मोबाइल नंबर पर काल करती रहीं लेकिन बात नहीं हो सकी। इसके बाद उन्होंने गोरखपुर से आकर शुक्रवार को फतेहपुर कोतवाली में पति के लापता होने की तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया। उन्होंने बताया कि पति की छह साल पहले बांदा में तैनाती हुई थी। पुलिस ने उन्हें बेहोशी की हालत में अस्तपाल में भर्ती कराया है। प्रथम दृष्टया रोडवेज बस से आते समय उनके साथ जहरखुरानी होने की बात कही जा रही है। पुलिस घटना की पड़ताल कर रही है।

Edited By: Abhishek Agnihotri