कानपुर, जेएएन। विद्युत अभियंताओं समेत बिजली कर्मचारी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित हो रहे हैं, इस कड़ी में अब तक कई कर्मचारियों की जान भी जा चुकी है। निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए विद्युत अभियंता व कर्मचारी अपनी जान जोखिम में डाल कर काम कर रहे हैं। कर्मचारियों के बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित होने के बाद भी बिजली आपूर्ति बाधित नहीं होने दी जा रही है। विद्युत अभियंताओं व कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में रखने के लिए विद्युत अभियंता संघ ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है। इसके लिए उनको पत्र भेजने के साथ ही ट्वीट भी किया गया है।

उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद अभियंता संघ की बैठक में विद्युत अभियंताओं व कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित होने पर चिंता जताई गई। कहा गया कि कोरोना संक्रमण की वजह से कई साथियों का निधन हो गया है। बैठक में कहा गया कि विद्युत विभाग जन सुविधा व आवश्यक सेवाओं के अंतर्गत आता है। विद्युत विभाग के अधिकारी व कर्मचारी निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए लगातार काम कर रहे हैं। इस दौरान वे कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आकर खुद भी संक्रमित हो रहे हैं। बैठक में कहा गया कि बिजली अभियंताओं व कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स घोषित किया जाना जरूरी है। इसके लिए मुख्यमंत्री को पत्र भी भेजा गया। भेजे गए पत्र में मुख्यमंत्री से अनुरोध किया गया कि विद्युत अभियंताओं व कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी प्रदान करने का आदेश दिया जाए। ट्विटर के माध्यम से भी प्रदेश भर से अभियंता मुख्यमंत्री से अपील कर रहे हैं। 

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021