कानपुर, जेएनएन। वाराणसी से इंदौर को जाने वाली काशी-महाकाल एक्सप्रेस में पहले दिन यात्रा करने वाले यात्रियों को इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आइआरसीटीसी) उपहार देगा। पहले दिन से ही यात्री वेबसाइट से टूर पैकेज भी बुक कर सकते हैं।

एक घंटे पहले करंट बुकिंग काउंटर से भी मिलेगा टिकट

काशी विश्वनाथ, महाकाल और ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग को जोड़ने वाली आइआरसीटीसी द्वारा संचालित तीसरी प्राइवेट सेक्टर की ट्रेन काशी-महाकाल एक्सप्रेस का रविवार को ट्रायल रन था। 20 फरवरी से यह ट्रेन नियमित होगी। पहली बार यात्रियों को लेकर गुरुवार को वाराणसी से इंदौर रवाना होगी। यात्री आइआरसीटीसी की वेबसाइट से आन लाइन टिकट बुक कराने के साथ टूर पैकेज भी बुक कर सकते हैं। ऑन लाइन बुकिंग न होने से ट्रेन आने से एक घंटे पहले करंट बुकिंग काउंटर से यात्री टिकट प्राप्त कर सकेंगे। आइआरसीटीसी के सीआरएम अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि पहले दिन यात्रा करने वालों को उपहार देने का निर्णय हुआ है।

ट्रेन में 176 सीटें अभी शेष

12 बोगियों की ट्रेन में नौ बोगियां यात्रियों के लिए हैं। कुल 648 सीटों में 472 सीटें बुक हो चुकी हैं। 176 सीटें शेष है।

समय सारिणी

ट्रेन नंबर 82401- वाराणसी से प्रत्येक मंगलवार और गुरुवार को 14.45 बजे, 20.50 बजे सेंट्रल स्टेशन आएगी। पांच मिनट के ठहराव के बाद ट्रेन रवाना होगी।

ट्रेन नंबर 82404- इंदौर से सोमवार की सुबह 10.55 बजे चलकर 23.40 बजे सेंट्रल स्टेशन पहुंचेगी। यहां से मंगलवार की सुबह वाराणसी पहुंचेगी।

ट्रेन नंबर 82403- प्रयागराज से रविवार दोपहर 15.15 बजे चलकर 20.50 बजे सेंट्रल पर आएगी। सोमवार सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी।

ट्रेन नंबर 82402- इंदौर से बुधवार और शुक्रवार को सुबह 10.55 बजे से चलकर 23.40 बजे सेंट्रल पहुंचेगी। गुरुवार और शनिवार को यह ट्रेन सुबह छह बजे वाराणसी पहुंचेगी।

अस्थायी रूप से लगाया था भगवान का चित्र

आइआरसीटीसी के सीआरएम ने कोच में मंदिर की बात पर सफाई देते हुए कहा कि नए काम की शुरुआत आराध्य की पूजा अर्चना से होती है। नई ट्रेन और रैक होने से कर्मचारियों ने एक सीट पर अस्थायी तौर पर भगवान शिव का चित्र लगाया था। नियमित होने पर सभी सीटें बुक होंगी। 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस