जागरण संवाददाता, कानपुर : भाऊ सिंह पनकी स्थित प्लांट में जलभराव के चलते कूड़े से खाद बनाने का काम ठप पड़ा है, तो घरों से कूड़ा नहीं उठने से सड़कों पर जगह-जगह गंदगी जमा है। कूड़ा उठान के लिए खरीदे गए डेढ़ सौ वाहन दिखावा बने हुए हैं। ऐसे में कूड़ा उठाने की व्यवस्था महज कागजों में चल रही है।

प्लांट में लगे पहाड़, बाईपास तक गंदगी

शहर को स्मार्ट बनाने के लिए करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं लेकिन कूड़ा उठाने की पुख्ता व्यवस्था नहीं बन सकी है। नवंबर तक सभी 110 वार्डो में घर-घर से कूड़ा उठाने की कार्ययोजना बनी थी। अभी 21 वार्डो से ही कूड़ा उठाया जा रहा है और उसका भी निस्तारण नहीं हो रहा है। जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने से पांडु नदी का पानी प्लांट में भर जाने से खाद बनाने का काम ठप हो गया है। प्लांट में कूड़े के पहाड़ लग गए हैं। बाईपास तक गंदगी के ढेर लग गए हैं। सड़ांध से लोगों का सांस लेना दूभर हो गया है। बताते चलें कि पहले साढ़े तीन सौ मीट्रिक टन कूड़े से रोजाना खाद बनाई जाती थी। बिजली कनेक्शन होने पर रोजाना सात सौ मीट्रिक टन कूड़े से खाद बनाई जाने लगी थी।

कई इलाकों में व्यवस्था चौपट

जीटीएन कंपनी के कर्मचारियों की हड़ताल के चलते घरों से कूड़ा नहीं उठ रहा है। जरौली, गोपाल नगर, यशोदानगर, छपेड़ापुलिया, न्यू सिविल लाइंस, श्यामनगर, पशुपति नगर, सैनिक नगर, जेके मंदिर नहरिया के पास समेत कई इलाकों में सड़क पर कूड़ा एकत्र है। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय संखवार ने बताया कि घरों से कूड़ा उठान नहीं होने के कारण कंपनी को नोटिस दी जा रही है।

एक भी कूड़ाघर नहीं हटा

स्मार्ट सिटी में कूड़ा ट्रांसफर स्टेशन का निर्माण होने के बाद कूड़ाघर हटाए जाने की योजना थी, लेकिन एक भी कूड़ाघर नहीं हटाया गया। चुन्नीगंज, जनता नगर चौकी समेत तीन स्थानों पर कूड़ा ट्रांसफर स्टेशन चल रहे हैं, जबकि मंडलायुक्त ने कृष्णानगर, भगवतदास घाट रबिश विभाग समेत तीन स्थानों पर 31 अगस्त तक बनाए जाने के आदेश दिए हैं।

नगर स्वास्थ्य अधिकारी को हटाने के लिए लिखा पत्र

नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय संखवार को हटाने के लिए सांसद सत्यदेव पचौरी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को पत्र लिखा है। राघवेंद्र मिश्र समेत कई पार्षदों ने इस बाबत सांसद को पत्र लिखा था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप