कानपुर, जेएनएन। बिल्हौर में जीटी रोड पर भीषण सड़क हादसा हो गया, वहीं हंसते खेलते मासूम की मौत से परिजनों ने तंत्र मंत्र की बात कही है। बकेवर के एक सब्जी विक्रेता के खाते चार करोड़ रुपये आने और दिबियापुर के एक गांव में एक हजार साल पुरानी सूर्य प्रतिमा मिलने की खबर चर्चा में रही। बुधवार से सावन माह शुरू होने पर भोर पहर से शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती रही।

बिल्हौर में जीटी रोड पर हादसा

शहर के बिल्हौर के अरौल में बुधवार को जीटी रोड पर भीषण सड़क हादसा हो गया। गुरु पूर्णिमा पर कन्नौज तिर्वां में मंदिर में दर्शन पूजन करके हरदोई लौट रहे श्रद्धालुओं की ट्रैक्टर-ट्राली जीटी रोड पर अरौल के पास पलट गई। हादसे में ट्राली के नीचे दबकर दो लोगों की मौत हो गई और करीब 27 लोग जख्मी हुए हैं। सीएचसी में प्राथमिक उपचार के साथ गंभीर घायलों को कानपुर रेफर किया गया है।

तंत्र-मंत्र से मासूम की मौत

उत्तरीपूरा में मासूम की मौत पर परिजनों ने तंत्र-मंत्र का संदेह जताया है। उनका कहना है कि पड़ोसी कथित तांत्रिक से विवाद हो गया था। रात में उसने घर के पीछे तंत्र पूजा की और इसके बाद 11 माह के मासूम की हालत बिगड़ गई। कुछ ही देर में उसने दम तोड़ दिया। पिता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है।

बैंक खाते में आए चार करोड़

इटावा के एक गांव में रहकर सब्जी बेचने वाले के बैंक खाते में चार करोड़ रुपये आ गए। पास बुक में एंट्री कराने पर उसे जानकारी हुई तो उसने सुनहरे भविष्य की कल्पना करते हुए परिजनों और इष्ट मित्रों को भी फोन पर जानकारी दे डाली। लेकिन बैंक वालों ने खाते में आहरण रोककर उसके सपनों पर पानी फेर दिया। जब उसे हकीकत की जानकारी हुई तो उसे मायूसी हाथ लगी।

एक हजार साल पुरानी सूर्य प्रतिमा

औरैया के दिबियापुर के एक गांव में मिट्टी खोदाई के समय एक हजार साल पुरानी सूर्य प्रतिमा निकली है। पहले ग्रामीणों ने उसे बुद्ध प्रतिमा समझकर पूजन शुरू कर दिया लेकिन बाद में पुरातात्विक विभाग के विशेषज्ञों ने उसे सूर्य देव की मूर्ति बताया है। मूर्ति को करीब एक हजार साल पुरानी और मंदिर को महमूद गजनवी द्वारा ध्वस्त कराए जाने की जानकारी दी है। स्थानीय लोगों ने इसकी कीमत लाखों-करोड़ों में आंकी है।

सावन में मंदिरों में उमड़े भक्त

बुधवार से सावन माह शुरू होते ही भोर पहर से शिव भक्तों की भीड़ मंदिरों में उमड़ती रही। शहर के आंनदेश्वर मंदिर, सिद्धनाथ मंदिर समेत प्रमुख मंदिरों में भक्तों ने जलाभिषेक कर महादेव के जयकारे लगाए। वहीं मंदिरों के बाहर सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस व प्रशासनिक अफसर मौजूद रहे।

Posted By: Abhishek