Move to Jagran APP

UPPCL: यूपी के इस जिले में 10 से 12 घंटे तक हो रही बिजली कटौती, ठेकेदार की मनमानी उपभोक्ताओं पर पड़ रही भारी

UP Electricity कन्नौर में मनवाने तरीके से केबल डालने के नाम पर बिजली आपूर्ति बाधित की जा रही है। 10 से 12 घंटे की कटौती से उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं। ठेकेदार की मनमानी भीषण गर्मी में बिजली उपभोक्ताओं पर भारी पड़ रही है। वहीं विभाग के अधिकारी उपभोक्ताओं को कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे रहे हैं। इन दिनों लगातार गर्मी बढ़ती जा रही है।

By amit kuswaha Edited By: Abhishek Pandey Published: Sun, 09 Jun 2024 09:05 AM (IST)Updated: Sun, 09 Jun 2024 09:05 AM (IST)
ठेकेदार की मनमानी बिजली उपभोक्ताओं पर भारी

संवाद सहयोगी, छिबरामऊ। नगर में मनवाने तरीके से केबल डालने के नाम पर बिजली आपूर्ति बाधित की जा रही है। 10 से 12 घंटे की कटौती से उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं। ठेकेदार की मनमानी भीषण गर्मी में बिजली उपभोक्ताओं पर भारी पड़ रही है। वहीं विभाग के अधिकारी उपभोक्ताओं को कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे रहे हैं। इन दिनों लगातार गर्मी बढ़ती जा रही है। शासन की ओर से बेहतर बिजली आपूर्ति के निर्देश दिए गए हैं। इसके बाद भी नई केबल डलवाने के नाम पर अघोषित कटौती की जा रही है।

छिबरामऊ पश्चिमी बाईपास का क्षेत्र करीब एक पखवाड़े से प्रभावित हो रहा है। कभी बाईपास की ओर तो कभी मुख्य बाजार में केबल डलवाने के नाम पर आपूर्ति बाधित की जाती है। इस समय गुरुद्वारा रोड के आसपास कर्मी कार्य करवा रहे हैं। मनमाने तरीके से शटडाउन ले लिया जाता है।

शुक्रवार को सुबह 11 बजे से शाम सात बजे तक आपूर्ति बाधित रही। लोगों ने जब कई बार उपकेंद्र पर काल की, तो आपूर्ति शुरू कराई गई। वहीं शनिवार को सुबह नौ बजे से ही शटडाउन दे दिया गया। पूरी दोपहर लोग भीषण गर्मी में परेशान रहे। रात आठ बजे तक आपूर्ति शुरू नहीं की गई थी। करीब 11 घंटे आपूर्ति बाधित रहने पर उपकेंद्र पर काल करने पर कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया।

अवर अभियंता को अवगत कराया गया तो वह भी ठेकेदार के शटडाउन वापस लेने पर आपूर्ति शुरू करने की बात कह कर अपनी जिम्मेदारी पूरी करते रहे। वही लोग भीषण गर्मी में सड़क पर टहलते रहे। पूरे दिन उन्हें पानी की समस्या का सामना भी करना पड़ा। इसको लेकर लोगों में नाराजगी है। लोगों ने ठेकेदार की मनमानी को लेकर अधिशासी अभियंता को अवगत कराया और अब केबल डालने के नाम पर शटडाउन न देने की मांग की।

अधिशासी अभियंता रवींद्र कुमार ने बताया कि कई जगह से ठेकेदार की शिकायतें आई हैं। भीषण गर्मी को देखते हुए फिलहाल शटडाउन नहीं दिया जाएगा। ठेकेदार को बदलवाया जाएगा। दूसरे ठेकेदार के माध्यम से कार्य कराया जाएगा। बिजली कटौती की सूचना भी पहले से उपभोक्ताओं को दी जाएगी। दिए गए समय में ही संस्था के कर्मियों को कार्य पूरा करना होगा।

काटकर फेंक दिए गए वाईफाई के केबल

तकनीकी युग में लोग इंटरनेट सेवा का उपयोग करने के लिए वाई-फाई कनेक्शन लिए हुए हैं। ठेकेदार की ओर से केबल डलवाने के दौरान जो भी वाईफाई के केबल खीचे गए थे, उन सभी को काटकर सड़क पर फिंकवा दिया गया। कर्मचारियों की इस मनमानी से तकनीकी सेवा बाधित हो गई। लोग नेट सेवा का उपयोग करने के लिए परेशान हो गए।

बिजली विभाग के अधिकारियों से बात की गई तो उन्होंने वाईफाई सेवा कंपनी से बात कर केबल जुड़वाने की बात कह कर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ली। कर्मियों की इस मनमानी से लोगों में नाराजगी है।

शोपीस बने इंटरनेट मीडिया ग्रुप

बिजली विभाग की ओर से आए दिन अधिकारी केवाइसी के लिए उपभोक्ताओं को जागरुक कर रहे हैं। इसके लिए इंटरनेट मीडिया पर अलग-अलग ग्रुप भी बनाए गए हैं। लोगों के मोबाइल फोन नंबर भी अंकित करवाए गए हैं। इसके बाद भी स्थिति है कि बिजली कटौती की सूचना कभी भी किसी भी उपभोक्ता के पास उपलब्ध नहीं रहती हैं।

उपभोक्ताओं को न तो आने का पता रहता है और न ही जाने का। यदि पांच बजे बिजली आपूर्ति का समय दिया जाता है, तो रात आठ बजे तक आपूर्ति सुनिश्चित नहीं की जाती है। ऐसे में यह ग्रुप केवल शोपीस बनकर रह गए हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.