फोटो संख्या 11

-फर्जी हस्ताक्षर और मुहर लगा निकाल ले रहे थे लोन

-बैंक प्रबंधक ने वाट्सएप पर ग्रुप बनाकर जोड़ा जिले की बैंक संवादसूत्र, ठठिया: बैंक में दलालों घुसपैठ और फ्राड कर लोन लेने वालों पर शिकंजा कसने के लिए बैंक प्रबधंक ने नई पहल शुरू की। इससे न सिर्फ ऐसे लोगों पर नकेल कसी, बल्कि पात्र और जरूरतमंद व्यक्ति को लाभ मिला। साथ ही वह दलालों के चंगुल में फंसने भी बच गया।

दरअसल ठठिया कस्बे की इलाहबाद बैंक शाखा में तकरीबन दो सप्ताह पहले एक व्यक्ति दलाल के माध्यम ऋण लेने के लिए आवेदन करने पहुंचा। बैंक प्रबंधक अश्वनी तिवारी ने नो ड्यूज पर हस्ताक्षर और मुहर देखी तो उन्हें शंका हुई। उन्होंने तत्काल संबंधित बैंक से जानकारी की तो पता चला कि मुहर और हस्ताक्षर दोनों ही फर्जी थे। इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना कर दी। पुलिस के आते ही दलाल और वह व्यक्ति मौके से फरार हो गया। पता चला कि वह व्यक्ति कई बैंकों से भी लोन ले चुका था। इसके बाद एक ऐसा मामला सामने आया कि उनके ही हस्ताक्षर फर्जी निकले। इन मामलों के बाद उन्होंने बैंक ब्रांच हेड्स नाम से वाट्सएप पर ग्रुप बनाया। जिसमें उन्होंने क्षेत्रीय बैंकों के साथ ही जिले की भी बैंकों के प्रबंधकों को जोड़ लिया। अश्वनी कहते हैं, ग्रुप बनाने से काम में पारदर्शिता आई है। अब जरूरतमंद और सही आदमी को ही ऋण मिल रहा है। ऐसे कर रहे काम

हस्ताक्षर और मुहर लगा नो ड्यूज सभी प्रंबधंक ग्रुप पर डालते हैं। इस मैसेज को देखने के लिए इन लोगों ने दोपहर 12 से एक बजे तक समय तय कर रखा है। ग्रुप में जो नो ड्यूज सही होता है, उसमें ओके और जो फ्राड होता है उसमें फर्जी लिख देते हैं। इसके अलावा यह भी जानकारी हो जाती है कि जिस व्यक्ति ने ऋण के लिए आवेदन किया है कि कहीं वो अन्य बैंक का कर्जदार तो नहीं है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप