Move to Jagran APP

CM Yogi Adityanath in Jhansi: हमारा प्रयास प्रत्येक व्यक्ति के जीवन व जीविका को बचाने का: योगी आदित्यनाथ

CM Yogi Adityanath in Jhansi सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा प्रयास प्रत्येक व्यक्ति का जीवन और उसकी जीविका को बचाने का है। इसी कारण हमने आंशिक कोरोना कर्फ्यू 31 मई की सुबह सात बजे तक बढ़ाया गया है।

By Dharmendra PandeyEdited By: Published: Sun, 23 May 2021 02:44 PM (IST)Updated: Sun, 23 May 2021 07:39 PM (IST)
गांव का निरीक्षण करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से भी बात की।

झांसी, जेएनएन। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण की सेकेंड स्ट्रेन पर अंकुश लगाने के प्रयास में मैदान में उतर चुके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को झांसी का दौरा किया। झांसी में इंट्रीगेटेड कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण करने के बाद उन्होंने मंडल के अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक भी की। गांव का निरीक्षण करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से भी बात की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि समूचे विश्व के साथ ही देश और हमारे प्रदेश को कोरोना वायरस की सेकेंड स्ट्रेन ने काफी आघात दिया है। इसके बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से हमारा प्रयास प्रत्येक व्यक्ति के जीवन और जीविका को बचाने का है। हम अपने अभियान में लगे हैं। सरकार का प्रयास है कि 30 मई तक हम लोग कोरोना वायरस संक्रमण पर बड़ी सफलता प्राप्त करें।

सरकार के प्रबंधन के बेहतर परिणाम सामने : सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा प्रयास प्रत्येक व्यक्ति का जीवन और उसकी जीविका को बचाने का है। इसी कारण हमने आंशिक कोरोना कर्फ्यू 31 मई की सुबह सात बजे तक बढ़ाया गया है। यह एक मई से चल रहा है। इस दौरान सभी जगह पर आवश्यक सेवाएं जैसे- सब्जी-फल मंडी जारी हैं। प्रदेश में सभी उद्योग चल रहे हैं। इस संकट में भी हमारी सरकार के प्रबंधन के बेहतर परिणाम सामने आए हैं। पॉजिटिविटी दर घटी है, रिकवरी दर तेजी के साथ बढ़ी है। प्रदेश में निगरानी समितियों ने बेहतर कार्य किया है। डोर-टु-डोर सर्वे करना, लक्षणयुक्त लोगों की पहचान कर आरआरटी ने टेस्ट कराने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के अंतर्गत हर परिवार को पांच किलो खाद्यान्न प्रति यूनिट देने की व्यवस्था की है। हम लोग भी जून, जुलाई व अगस्त माह में 15 करोड़ लोगों को नि:शुल्क खाद्यान्न वितरण करने का कार्य करेंगे।

थर्ड वेव को लेकर अभी से तैयारियां शुरू: मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी कोरोना वायरस की सेकेंड स्ट्रेन चल रही है, लेकिन हमने ïकोविड-19 की संभावित थर्ड वेव को लेकर अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके लिए हर मेडिकल कॉलेज एवं जिला अस्पताल में पीआइसीयू के निर्माण की कार्यवाही प्रारंभ हो चुकी है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र के सीएचसी पर भी फोकस किया जा रहा है। प्रदेश में सेकंड वेव में संक्रमण तेज होने के कारण मेडिकल ऑक्सीजन मांग बढ़ी, लेकिन हम इसकी आपूर्ति में सफल रहे। उन्होंने कहा कि हम तो केंद्र सरकार के आभारी हैं, जिन्होंने ऑक्सीजन एक्सप्रेस उपलब्ध कराने के साथ वायु सेना के विमान उपलब्ध कराए। इससे प्रत्येक जनपद में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का कार्य किया गया। आज केन्द्र सरकार के सहयोग से उत्तर प्रदेश सरकार के साथ तमाम संस्थाएं जुड़कर हर जनपद को ऑक्सीजन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का कार्य कर रही हैं। इस दौरान अकेले झांसी जनपद में छह मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लग रहे हैं।

प्रदेश में बढ़ा रिकवरी रेट: मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जब पॉजिटिविटी रेट अधिक था और रिकवरी रेट कम था, तब कुल एक्टिव केस की संख्या 3.10 लाख थी। आज प्रदेश में पॉजिटिव केस करीब 4,800 आए हैं। वहीं, कुल एक्टिव केस की संख्या घटकर 84,000 हो गई है। इस दौरान पिछले 22 दिनों में प्रदेश में 2.26 लाख से अधिक एक्टिस केस ठीक हुए हैं। प्रदेश में रिकवरी रेट इस समय 93 फीसदी से अधिक है। पॉजिटिविटी दर दो फीसदी के आसपास है। देश में सर्वाधिक 4.67 करोड़ से अधिक टेस्ट उत्तर प्रदेश में किए गए हैं। इतना ही नहीं हमने एक दिन में तीन लाख से अधिक टेस्ट का भी रिकॉर्ड बनाया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सेकंड वेव आने पर उत्तर प्रदेश के बारे में कहा जाता था कि 25 अप्रैल से 10 मई के बीच एक लाख केस प्रतिदिन आएंगे। इस कठिन समय को प्रदेश सरकार ने सभी की मदद से सफलतापूर्वक फेस किया और यह समस्या नहीं आने दी। प्रदेश में एक दिन में सर्वाधिक 38,000 केस 24 अप्रैल को आए थे। देश की सबसे बड़ी आबादी वाला राज्य उत्तर प्रदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में कोविड के विरुद्ध लड़ाई लड़ रहा है। प्रशासनिक टीम, स्वयं सेवी संगठन, कोरोना वॉरियर्स व अन्य के सहयोग से महामारी पर नियंत्रण पाया जा रहा है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.