जागरण संवाददाता जौनपुर: भाजपा शिविर कार्यालय पर बुधवार को डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस मनाया गया। डा. मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि देने के बाद जिला उपाध्यक्ष किरन श्रीवास्तव की अध्यक्षता में संगोष्ठी हुई।

मुख्य वक्ता जिला उपाध्यक्ष सुरेंद्र सिघानिया ने कहा कि पांच अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर पर लगा अनुच्छेद 370 का दंश हमेशा के लिए मिट गया। एक विधान, एक निशान और एक प्रधान की व्यवस्था लागू हो जाने से जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना साकार हो गया।

करीब सात दशक पहले उन्होंने इसके लिए अपना बलिदान दिया था। उनकी 23 जून 1953 को श्रीनगर की जेल में रहस्यमय मौत हो गई थी। श्री मुखर्जी के बलिदान से जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रवादी ताकतों की मुहिम को बल मिला था। अध्यक्षता किरन श्रीवास्तव ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के खात्मे की नींव उसी दिन पड़ गई थी जब श्यामा प्रसाद मुखर्जी को लखनपुर में गिरफ्तार किया गया था। संचालन जिला महामंत्री पीयूष गुप्ता ने किया। इसमें रवींद्र सिंह राजू दादा, अभय राय, संदीप सरोज, आमोद सिंह, संजीव शर्मा, अनिल गुप्ता, विनीत शुक्ला, रोहन सिंह, इंद्रसेन सिंह, प्रमोद प्रजापति, दिव्यांशु सिंह, विकास ओझा, अजय यादव, अकील आदि रहे। उसके उपरांत रोडवेज के पास स्वामी विवेकानंद पार्क में पौधरोपण किया गया।

Edited By: Jagran