जागरण संवाददाता, गौराबादशाहपुर (जौनपुर): मुफ्तीगंज ब्लाक के भदेवरा गांव में सोमवार को डीसी मनरेगा ने जेसीबी से पोखरे की खोदाई की शिकायत की जांच की। ग्रामीणों की तरफ से आवास के लिए आए धन गबन करने का भी आरोप लगाया था। उन्होंने मामले की जांच कराई तो पता चला कि पात्रों को आवास जारी ही नहीं किया गया था।

सीताराम सिंह ने प्रार्थना पत्र देकर गांव स्थित सुजान पोखरा और गजा पोखरा की खोदाई जेसीबी से कराने व गांव निवासी बरगदा राजभर महिला को फर्जी ढंग से आवास जारी करने की शिकायत की थी। इसको संज्ञान में लेते हुए डीसी मनरेगा भूपेंद्र सिंह व मुफ्तीगंज बीडीओ एसबी सिंह जांच करने पहुंचे। मौके पर देखा तो पोखरे का सुंदरीकरण कार्य पूर्ण मिला व कहीं जेसीबी से कार्य कराए जाने का कोई सबूत नहीं मिला। गांव में जाकर जब डीसी मनरेगा ने महिला बरगदा राजभर से पूछा कि क्या सरकारी धन लेकर द्वितीय तल पर आवास बनाया है। इस पर उस महिला ने साफ इन्कार किया। उसने कहा कि आवास का पैसा ही नहीं मिला है तो वह आवास कहां से बनाएगी। उसने अपने पैसों से घर बनाया है इस मामले की जब कागजों में छानबीन कराई गई तो हकीकत में इस महिला को आवास नहीं जारी किया गया था। डीसी मनरेगा ने बताया कि वह अपनी जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को प्रेषित कर देंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप