जागरण संवाददाता, जौनपुर: विद्यालय 11, छात्र 627, शिक्षक शून्य। नगर क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालयों का यह आंकड़ा बेसिक शिक्षा व्यवस्था की कलई खोल रहा है। इन विद्यालयों में प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों को संबद्ध कर काम चलाया जा रहा है। व्यवस्था में खामियों के कारण विभिन्न योजनाओं के जरिए करोड़ों रुपये पानी की तरह बहाने के बाद भी बच्चों का भविष्य चौपट हो रहा है। अभिभावक नामांकन कराकर जहां अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं, वहीं किसी भी स्तर से इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

नगर क्षेत्र के विद्यालयों में सर्व शिक्षा अभियान के तहत मध्याह्न भोजन योजना, निश्शुल्क ड्रेस व किताबों का वितरण, मुफ्त पढ़ाई, उपचार आदि की सुविधा मिलने के बाद भी छात्रों की संख्या निरंतर कम हो रही है। नामांकन कराने वाले छात्रों को भी गुणवत्तायुक्त शिक्षा नहीं मिल रही है। गत कई वर्षों से नियुक्ति न होने के कारण विद्यालय शिक्षक विहीन हो गए हैं। वहीं विद्यालय जर्जर भवन में चल रहे हैं। ऐसे में शिक्षा की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है। दस जूनियर हाईस्कूल बने कंपोजिट विद्यालय

11 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में दस को कंपोजिट विद्यालय में मर्ज कर दिया गया है। अधिकांश विद्यालयों में प्राथमिक के एक शिक्षक व एक शिक्षामित्र की तैनाती की गई है। फुटपाथ पर चल रहे विद्यालय को दो किलोमीटर दूर कर दिया मर्ज

उच्च प्राथमिक विद्यालय ओलंदगंज करीब एक दशक तक फुटपाथ पर चलता रहा। भूमि व भवन की व्यवस्था करने की बजाय इसे दो किलोमीटर दूर मियांपुर में मर्ज कर दिया गया। अधिक दूरी और व्यस्त सड़क होने के कारण अभिभावक छोटे-छोटे बच्चों को प्रवेश नहीं दिला रहे हैं। आस-पास सरकारी स्कूल न होने से गरीब बच्चे शिक्षा से वंचित हो रहे हैं।

नगर क्षेत्र में विद्यालयों का आंकड़ा..

उच्च प्राथमिक विद्यालय: 01

कंपोजिट विद्यालय: 10

प्राथमिक विद्यालय: 14

उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षक: 00

उच्च प्राथमिक विद्यालयों में अनुदेशक: 07

उच्च प्राथमिक विद्यालयों में पंजीकृत छात्र: 627

प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षक: 25

प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षामित्र: 21

प्राथमिक विद्यालयों में पंजीकृत छात्र: 2329

------------------------------

बोले जिम्मेदार..

नगर क्षेत्र के विद्यालयों में लंबे समय से नियुक्ति न होने के कारण शिक्षकों की कमी है। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनात सात अनुदेशकों के अतिरिक्त प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों से किसी तरह काम चलाया जा रहा है। अंतर जनपदीय स्थानांतरण में सात शिक्षक आए हैं। उनकी शीघ्र तैनाती की जाएगी। शिक्षकों के रिक्त पदों के लिए पत्र लिखा गया है।

-प्रवीण कुमार तिवारी, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी।

Edited By: Jagran