जागरण संवाददाता, जौनपुर: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के चुनावी शंखनाद में ¨हदुत्व की गूंज सामने बड़ी तादाद में मौजूद भगवा खेमे को खूब भाया। अयोध्या में राम मंदिर के शीघ्र निर्माण का संकल्प हो या वर्ग विशेष को निशाने पर रखते हुए उन्हें 'निजाम' नाम से संबोधन का मौका रहा हो, बूथों के सेनापतियों का अपने मुखिया का यह तेवर सर्वाधिक रास आया और इसका उन्होंने 'जय श्रीराम' व 'मोदी-मोदी' के नारों से मानों भरपूर जवाब भी दिया।

चुनावी तैयारी की बेला में कार्यकर्ताओं की मंशा व उनके नब्ज को बखूबी परखते हुए 'शाह' ने उन सभी मुद्दों पर अपना मुख्य फोकस रखा जो उन्हें चुनावी मुकाबला जीतने के लिए भरपूर खुराक दे सके।

टीडी कालेज के मैदान में शुक्रवार को काशी प्रांत के 28 हजार 105 बूथों के अध्यक्षों सहित लगभग 30 हजार छोटे-बड़े पदाधिकारियों के सम्मेलन में उन्होंने विपक्षी गठबंधन से कार्यकर्ताओं को बेफिक्र करते हुए कहा कि मोदी के डर से बने इस गठबंधन का खेल चुनाव परिणाम आने वाले दिन को ही खत्म हो जाएगा। अपने 27 मिनट के ओजपूर्ण संबोधन में समूचे विपक्ष की तो बखिया उधेड़ी ही सपा-बसपा को मुख्य निशाने पर रखा। सपा-बसपा के शासन को बुआ-बबुआ का राज बताते हुए तंज कसा कि ये कहने को मुख्यमंत्री तो थे लेकिन सत्ता 'निजाम' चलाते थे। श्री शाह यहीं नहीं रुके, उन्होंने 'निजाम' शब्द का विच्छेद करते हुए नसीमुद्दीन, मुख्तार, आजम खान आदि का नाम भी गिनाया।

घुसपैठियों के मुद्दे पर राहुल गांधी व उनकी टीम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इन्हें देश की सुरक्षा नहीं बल्कि उन घुसपैठियों के हितों की ¨चता है। श्री शाह ने दावा किया कि 2019 में मोदी सरकार पुन: सत्ता में आएगी और इन घुसपैठियों को चुन-चुन कर बाहर खदेड़ा जाएगा। उन्होंने राम मंदिर निर्माण में कांग्रेस नेता वकील कपिल सिब्बल के अड़ंगे की चर्चा करते हुए निर्माण में देरी के लिए न केवल कांग्रेस, सपा व बसपा के रवैए को जिम्मेदार ठहराया बल्कि उनसे अपने रुख को स्पष्ट करने की चुनौती भी दी।

श्री शाह ने मोदी सरकार की उपलब्धियों का न केवल खुले मन से बखान किया बल्कि पूरे 129 जन कल्याणकारी योजनाओं की पूरी सूची भी लहराई। आश्वस्त किया कि मच्छर व माफियाओं से निजात दिलाने वाली भाजपा सरकार आने वाले पांच वर्षों में यूपी को देश का नंबर वन राज्य बनाएगी।

इसके पूर्व अपने संक्षिप्त ¨कतु सारगर्भित उद्बोधन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगामी लोकसभा चुनाव को धर्मयुद्ध की संज्ञा दी। उन्होंने कहा कि देश भक्तों का अवसरवादी गठबंधन से मुकाबला है। यह चुनाव देश की तस्वीर व तकदीर के लिए काफी अहम है। उन्होंने प्रयागराज में दिव्य महाकुंभ के अभियान व चार सौ पचास वर्षों बाद अक्षयवट के दर्शन का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया। कहा कि कुंभ में 15 जनवरी से अब तक 15 करोड़ लोग स्नान कर चुके हैं। सम्मेलन में प्रदेश प्रभारी केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा, प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran