जागरण संवाददाता, बदलापुर (जौनपुर): आखिरकार विधायक रमेश चंद्र मिश्र का अथक प्रयास रंग लाया। उनकी पहल पर क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या पीली नदी के बदलापुर खुर्द के चकरियहवा घाट पर पुल निर्माण हेतु 336.14 लाख की पहली किश्त शासन द्वारा स्वीकृत कर दी गई है। इसकी खबर लगते ही क्षेत्रवासी खुशी से झूम उठे।

घाट पर रपटा पुल की जगह पुल निर्माण की मांग क्षेत्रवासियों द्वारा कई दशक से की जा रही थी। सरकारें आती-जाती रहीं लेकिन ग्रामीणों का यह सपना पूरा नहीं हुआ। वर्ष 2017 में भाजपा की सरकार बनने पर विधायक रमेश चंद्र मिश्र ने न सिर्फ पुल निर्माण का वादा किया बल्कि इस गंभीर समस्या को सदन में भी उठाया। वर्ष 2018 में आयोजित बदलापुर महोत्सव में आए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी पुल की घोषणा तो कर दी लेकिन तमाम अड़चनों के चलते निर्माण की स्वीकृति नहीं मिली। गतदिनों हुए महोत्सव में जब डिप्टी सीएम ने पुल का शिलान्यास कर दिया तो लोगों में विश्वास हो गया कि अब उनकी समस्या का निराकरण हो जाएगा। इसके बाद अब निर्माण की पहली किश्त 336.14 लाख स्वीकृत होते ही लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं है। 672.28 लाख में होगा निर्माण

पीली नदी के चकरियहवा घाट बदलापुर खुर्द पर 672.28 लाख की लागत से पुल का निर्माण होगा। जिसकी पहली किश्त 336.14 लाख रुपये स्वीकृत हो गई है। जिसमें पुल, पहुंच मार्ग व अतिरिक्त पहुंच मार्ग का निर्माण होगा। यह गांव होते रहे हैं प्रभावित

पीली नदी के चकरियहवा घाट पर बने रपटा पुल के डूबने से बदलापुर खुर्द, भगतपुर, जीरिकपुर, वीरभानपुर, मछलीगांव, प्राणपट्टी, दुर्गापट्टी, चकमोलनापुर, लेदुका, देवरिया, कटहरी, बेलावा, चंवरी, सलामतपुर, रारीकला, रारीखुर्द, बखोपुर, छंगापुर व बरबसपुर आदि प्रभावित रहते हैं। बारिश के चार महीने में लोगों का संपर्क तहसील मुख्यालय, अस्पताल व स्कूल-कालेजों से टूट जाता है। मजबूरी में लोग लंबी दूरी तय करके आते-जाते थे।

मुझे भी है अपार खुशी: विधायक

पीली नदी के चकरियहवा घाट बदलापुर खुर्द पर पुल निर्माण हेतु पहली किश्त जारी होने के बाबत पूछे जाने पर विधायक रमेश चंद्र मिश्र ने कहा कि इससे बड़ी खुशी मेरे लिए और कुछ नहीं हो सकती। जनता के बीच किए गए वादे को पूरा करने में अथक मेहनत करनी पड़ी। इस पुल को स्वीकृत कराकर मैंने असंभव को संभव कर दिया। धन अवमुक्त होने पर लोगों में हर्ष

नौपेड़वा (जौनपुर) : चकरियहवा घाट पर पुल निर्माण के लिए धन अवमुक्त होने की जानकारी होने पर बुधवार को बलुआ, धनियामऊ, अगरौरा, बड़ारी, औंका, सरायहरखू आदि गांवों में खुशी की लहर दौड़ गई। अगरौरा गांव की प्रधान अनीता चौहान के घर मिठाई वितरित की गई। पीली नदी पर बनने वाले इस पुल की मांग ग्रामीण लंबे समय से करते आ रहे थे। युवा भाजपा नेता अजय सिंह, अमित मिश्रा, अरुण पाठक, बबलू चौहान, अमर सिंह, सुधीर पाठक, प्रेम चंद गुप्ता, अनिल सिंह, मनोज सिंह, सुरेंद्र सिंह, छोटे लाल जायसवाल, प्रधान इसरार, प्रदीप मिश्र, प्रधान सुनील श्रीवास्तव, रमापति यादव, संतोष सिंह अध्यापक सहित दर्जनों लोगों ने विधायक रमेश मिश्र के प्रति आभार जताया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस