जौनपुर : ओवर ब्रिज निर्माण कार्य अब गति पकड़ रहा है। पावा बनाने के लिए शनिवार को नींव की खोदाई जेसीबी लगाकर कराई गई। कार्य परिधि में लगे विद्युत पोल न हटाए जाने के कारण काफी देर तक कामकाज बाधित रहा। बाद में अधिकारियों के निर्देश पर स्थल बदलकर कार्य किया गया। इस दौरान वाहन आ जाने के कारण कार्य प्रभावित हुआ।

मिर्जापुर मार्ग स्थिति सिटी स्टेशन के क्रा¨सग पर ओवर ब्रिज निर्माण के इस परियोजना के लिए शासन स्तर से 49 करोड़ रुपया स्वीकृत किया गया। 700 मीटर ओवर ब्रिज बनाने के लिए सेतु निगम को शासन स्तर से जिम्मेदारी सौंपी गई। इसमें 24 करोड़ 5 लाख रुपये सेतु निगम को ओवर ब्रिज बनाने के लिए दिया गया। निर्माण कार्य शुरू कराने के पहले बाइपास बनाने के लिए शासन ने पीडब्ल्यूडी को 16 करोड़ 88 लाख रुपये स्वीकृत किया। इसे पीडब्ल्यूडी ने एक वर्ष से शुरू कार्य को धीमी गति से पूरा किया। निर्माण कार्य शुरू कराने के लिए सिकरारा की ओर से शहर होते हुए पालीटेक्निक चौराहे के रास्ते मिर्जापुर, मड़ियाहूं मार्ग की ओर जाने-आने वाले वाहनों को पकड़ी चौराहे से ही भेजने के लिए सड़क बनाई गई। साथ ही आजमगढ़, वाराणसी की ओर से आने-जाने वाले वाहनों को वाजिदपुर टीडी कालेज के पिछले गेट के सामने से होते हुए वन विहार के रास्ते मड़ियाहूं, मिर्जापुर मार्ग में मिला दिया गया। दूसरी ओर 17 मार्च से शुरू हुए निर्माण कार्य के लिए स्थल का चिह्नीरण कर इस परिधि में आने वाले विद्युत पोल को हटाने के लिए उच्चाधिकारियों के साथ-साथ संबंधित विभाग को पत्र भेजा, ¨कतु आज तक कार्यस्थल की परिधि में आने वाले पोल और बिजली के तारों को नहीं हटाया गया। इसके कारण दोपहर बाद से शुरू हआ खोदाई कार्य प्रभावित होने लगा। काम में लगे मजदूरों ने उप परियोजना प्रबंधक केएन ओझा से इसकी शिकायत की। इस पर उन्होंने बिजली विभाग के एक्सईएन से वार्ता किया। इसके बाद जहां विद्युत पोल व तार नहीं है वहां काम शुरू किया गया। काम कर रहे मजदूरों ने बताया कि बैरियर लगने के बाद भी वाहन कार्यस्थल की ओर प्रवेश कर जा रहे हैं। इससे उन्हे काम करने में दिक्कत हो रही है।

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट