शिवम सिंह, उरई : महिलाएं अपने पैरों पर खड़ा होकर पूरी तरह आत्म निर्भर बन सकें। इसके लिए मिशन शक्ति अभियान के तहत परिवहन विभाग ने महिलाओं की भी सुध ली है। ड्राइविग सीखने पर फीस में 25 फीसद की छूट दी जा रही है। शासन के दिशा-निर्देश पर महिलाओं को दक्ष बनाने का निर्णय लिया गया है। ताकि महिलाएं भी यातायात के नियमों के आधार पर कुशलता के साथ वाहन चला सकें।

प्रथम चरण में महिलाओं को प्रशिक्षित करने के लिए परिवहन विभाग ने जिले में स्टेशन रोड और राहिया स्थित दो ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्र को नामित किया है। इन केंद्रों में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली महिलाओं को निर्धारित शुल्क में 25 फीसद की छूट मिलेगी। इसके अलावा प्रशिक्षु महिलाओं को घर से प्रशिक्षण केंद्र लाने और वापस छोड़ने की जिम्मेदारी भी केंद्र संचालक की होगी। परिवहन विभाग की पहल पर ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्रों ने अपनी सहमति भी जता दी है।

----

31 दिसंबर तक चलता रहेगा अभियान

यात्री कर अधिकारी (पीटीओ) अमित वर्मा के अनुसार महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए जनपद में 31 दिसंबर 2021 तक मिशन शक्ति अभियान चलाया जाएगा। इसी क्रम में महिलाओं को यातायात के नियमों का पालन करने के लिए जागरूकता अभियान भी शुरू किया गया है। साथ ही महिलाओं को दक्ष वाहन चालक बनने के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है।

------------------------

व्यवसायिक डाइविग लाइसेंस

के लिए कर सकेंगी आवेदन

परिवहन कार्यालय में 18 वर्ष की उम्र के बाद कोई भी व्यक्ति ड्राइविग लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकता है। पहले लर्निंग, इसके बाद ही स्थायी ड्राइविग लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकता है। व्यवसायिक वाहन चलाने के लिए अलग से ड्राइविग लाइसेंस बनाया जाता है। आरटीओ कार्यालय के अनुसार व्यवसायिक वाहन के लाइसेंस के लिए कम महिलाएं आवेदन करती हैं।

-------------------------

जिले में वाहनों की संख्या :

मल्टीएक्सल्ड आर्टिकुलेट व्हीकल, 2781

ट्रक और लारी, 2099

टैंकर्स, 61

हल्के मोटर वाहन, 757

बस, 400

टैक्सी, 270

हल्के मोटर वाहन यात्री, 3843

एंबुलेंस, 11

मोटरसाइकिल, 228221

कार, 12470

जीप, 8118

ट्रैक्टर्स, 19227

--------------------------

जनपद के दो ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्रों को नामित किया गया है। क्रम से सभी ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्रों को नामित किया जाएगा। ताकि, अधिक से अधिक महिलाएं ड्राइविग फीस में 25 फीसद छूट का लाभ उठा सकें। रोजाना लगभग दो दर्जन महिलाएं ड्राइविग लाइसेंस बनवा रही हैं।

सौरभ कुमार, आरटीओ, सहायक संभागीय अधिकारी

Edited By: Jagran