जागरण संवाददाता, उरई : कोरोना टीकाकरण की दोनों डोज लेने वाले लाभार्थियों पर संक्रमण का असर कम हो रहा है। ऐसे सिर्फ इक्का-दुक्का मरीज ही सामने आ रहे है, लेकिन जिन्होंने कोरोना वायरस से बचाव के लिए एक भी डोज नहीं लगवाई है, वहीं संक्रमण के शिकार अधिक हो रहे है। जिले में पांच सौ के करीब आए कोरोनो के नए मरीजों में चार सौ मरीज ऐसे हैं जिन्होंने कोरोना का टीका लगवाया ही नहीं है।

जिले में 516 कोरोना के मरीज एक्टिव है। इनमें आधे से अधिक मरीजों को कोविड-19 टीकाकरण अभी तक नहीं हुआ हैं। जिसकी वजह से संक्रमण के शिकार होकर इलाज करा रहे है। डा. आर पी सिंह का कहना है कि साल भर के अनुभव और दुनिया के आ रहे अध्ययन से यह साफ पता चलता है कि कोविड-19 के संक्रमण से अगर खुद के साथ घर-परिवार व समुदाय को सुरक्षित रखना है तो कोविड टीकाकरण कराना सभी पात्र लोगों के लिए बहुत जरूरी है। टीकाकरण के साथ जरूरी प्रोटोकाल का पालन भी सभी की भलाई के लिए आवश्यक है। कोविड की पहली लहर में तो बचाव का कोई टीका था ही नहीं, लेकिन दूसरी लहर में ज्यादातर वही लोग गंभीर रूप से कोरोना की चपेट में आए, जिन्होंने टीका नहीं लगवाया था। यही हाल अब तीसरी लहर में देखने को मिल रहा है। जिले में लगातार कोरोना के मरीज सामने आ रहे है। इसलिए संक्रमण को रोकने के लिए जब जिसकी बारी आए टीकाकरण जरूर कराएं। तभी जिले को कोरोना मुक्त बनाया जा सकता है। साथ ही एक दूसरे को टीकाकरण के लिए प्रेरित करने की आवश्यकता है। वहीं अगर किसी को कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई दें तुरंत इलाज कराकर अपने आप को सुरक्षित रखें।

----------------------------------

एक नजर टीकाकरण पर : - जिले में लगाई गई कुल डोज, 20,78,431

- प्रथम डोज के लाभार्थी,12,75,016

- द्वितीय डोज के लाभार्थी,7,98,006

- 15 से 18 के लाभार्थी, 63,762

- प्रिकॉशन डोज वालों की संख्या, 5,409

----------------------------------------------

कोरोना के कहर का आंकड़ा :

- जिले में अब तक मिले कुल मरीज,12173

- जिले में अब तक जांच की संख्या, 1121907

- ठीक होने वाले मरीजों की संख्या, 11454

- मौत होने वालों की संख्या, 203

- एक्टिव मरीजों की संख्या, 516

----------------------------

Edited By: Jagran