संवाद सहयोगी, जालौन : पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने और उन्हें सबल बनाने के लिए सरकार की ओर से कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। ऐसे में ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना चलाई जा रही है। इसके तहत न सिर्फ लड़कियों को शिक्षित किया जाता है, बल्कि उन्हें रोजगार दिलाने एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में भी मदद की जाती है। यह बात बीडीओ महिमा विद्यार्थी क्षेत्र पंचायत कार्यालय में बनाए गये महिला शक्ति केंद्र की स्थापना के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि जागरूकता फैलाने के लिए स्वयंसेवियों को जोड़ा गया। सरकार का लक्ष्य है कि इसमें 3 लाख से भी ज्यादा स्वयंसेवी छात्रों को शामिल किया जाए। साथ ही एनसीसी की छात्राओं को भी इस काम से जोड़ा जाएगा। इसके बदले उन्हें सरकार की ओर से प्रमाणपत्र भी दिया जाएगा। साथ ही दूसरों को भी जुड़ने के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके अलावा गांवों में महिलाएं घूम घूम कर अन्य महिलाओं को भी जागरूक करेंगी। महिला शक्ति केंद्र अलग-अलग स्तर पर काम करेगी। इसके तहत केंद्रीय स्तर पर नॉलेज सपोर्ट और राज्य स्तर पर महिलाओं को संसाधन सहयोग मुहैया कराया जाता है। इसमें राज्य सरकार, जिले और तहसील स्तर पर भी महिलाओं से जुड़े मुद्दों को लेकर केंद्र को सहयोग दिया जाता है। कार्यक्रम के दौरान महिलाओं को आवास योजना, कौशल विकास कार्यक्रम एवं महिला सम्मान, स्वावलंबन, सुरक्षा के विषय में जानकारी दी। इस मौके पर किरन रावत, मेधा भरद्वाज, वर्षा सिंह, प्रियंका धीमान, मनीष निरंजन, सतीश वर्मा, देवशरण सोनी आदि लोग उपस्थिति रहे।

Edited By: Jagran