जागरण संवाददाता, उरई : बसों में यात्रा करने वाले मुसाफिरों की सुरक्षा के लिए एआरटीओ व एआरएम ने शिविर लगाकर बस चालक व परिचालकों के स्वास्थ्य की जांच कराई। यह शिविर तीन दिनों तक चलती रहेगी।

एआरटीओ सौरभ कुमार ने बताया कि बसों के बेहतर परिचालन के लिए जिला प्रशासन व परिवहन विभाग की ओर से रोडवेज विभाग के डिपो में स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें चालक, परिचालक व हेल्परों की जांच की गई। सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में स्वास्थ्य परीक्षण की मांग उठी थी। इस पर जिला प्रशासन ने हामी भी भर दी। समय पर बसों का परिचालन करने की आपाधापी में अक्सर चालक व परिचालक अपने स्वास्थ्य की अनदेखी करते हैं जिससे बड़े हादसे का कारण भी बन सकता है। खासकर नेत्र रोग जैसी बीमारियों को लेकर हमेशा खतरा बना रहता है। पहले दिन 38 लोगों की जांच की गई है।

-----------------------

समय-समय पर जांच जरूरी

एआरएम केसरी नंदन चौधरी ने कहा कि बस चालक व परिचालक की जांच समय-समय पर होनी चाहिए। परिवहन विभाग द्वारा शिविर लगाया गया। शिविर में सभी बसों के चालक-परिचालक शामिल करने की पूरी कोशिश की गई। शिविर छह-छह माह के अंतराल में लगाने को लेकर आरटीओ से चर्चा की गई।

Edited By: Jagran