जागरण संवाददाता, उरई : शहर के मोहल्लों में बुनियादी सुविधाओं का अभाव अभी तक लोगों को खटक रहा है। मोहल्ला उमरार खेरा के एक हिस्से में बहुत सी समस्याएं हैं जिनका निराकरण नहीं हो सका है। सबसे अधिक समस्या पेयजल की है। कई गलियां भी कच्ची हैं। इसी मोहल्ले के बाहरी भाग में बसी कंजर बस्ती में तो कुछ भी नहीं है। सड़क, पानी का निकास, बिजली आदि व्यवस्थाएं नदारद हैं। कई बार इस बस्ती के उद्धार के लिए गुहार लगाई गई लेकिन अब तक सुनवाई नहीं हुई है। बरसात के दिनों में इस बस्ती के लोग घुटनों तक पानी के बीच निकलने को मजबूर हो जाते हैं।

मोहल्ला उमरार खेरा शहर के झांसी रोड किनारे बसा हुआ है। यहां पर सबसे अधिक जनसंख्या अनुसूचित जाति की है। बाकी अन्य बिरादरी के लोग भी रहते हैं। मोहल्ले का विकास तो हुआ है लेकिन कुछ ही हिस्से में। बाकी भूभाग विकास से कोसों दूर है। मोहल्ले के बीचों-बीच से बड़ा नाला बहता है जिससे बाढ़ का खतरा लोगों को सताता रहता है। एक तरफ नाला बिल्कुल कच्चा है। सबसे बड़ी दिक्कत पेयजल की है।

25 में 17 हैंडपंप खराब

मोहल्ले में पानी सप्लाई के लिए पानी की टंकी बनी हुई है। आधे मोहल्ले में पानी की लाइन भी है लेकिन नलों में पानी नहीं आता है। लोग हैंडपंप से पानी भरते हैं। मोहल्ले में पच्चीस हैंडपंप लगे हुए हैं जिनमें से लगभग 17 खराब पड़े हैं जिससे पानी की दिक्कत अधिक है। गर्मियों में यह परेशानी और भी बढ़ जाती है। मोहल्ले की कंजर बस्ती में तो कोई भी सुविधा नहीं है। झोपड़ पट्टी में रहने वाले इन गरीबों को अब तक उपेक्षित रखा गया है। कंजर समुदाय के लोग बेहद समस्याओं के बीच रह रहे हैं। सड़कें है नहीं, पानी के निकास का भी कोई साधन नहीं है। बरसात के दिनों में भारी परेशानी का सामना लोगों को करना पड़ता है। बिजली, पानी की भी कोई व्यवस्था नहीं है। गर्मियों में इन लोगों के लिए टैंकर से पानी की व्यवस्था करानी पड़ती है। लोगों का कहना है कि समस्याओं का निराकरण कराया जाए ताकि लोगों को कुछ राहत मिल सके।

बा¨शदों का दर्द

मोहल्ले के बड़े नाले को पक्का कराना चाहिए साथ ही साफ सफाई कराई जाए ताकि बाढ़ का खतरा न रहे। बारिश के समय लोग सहमे रहते हैं। -कमल

नाले की सफाई न होने से मच्छरों का भीषण आतंक है। आस पास रहने वाले लोग दुर्गंध से परेशान रहते हैं फिर भी सफाई नहीं कराई जा रही है। -नसीर

मोहल्ले में पानी की समस्या का निराकरण कराया जाए ताकि लोगों को राहत मिले। लोग गर्मियों में पानी के लिए भटकते हैं तब कहीं पानी मिल पाता है। - मगललाल

समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर होना चाहिए। कई बार मोहल्ले के लोग शिकायत कर चुके हैं फिर भी कोई सुनवाई नहीं होती है।-फिरोज

कंजर बस्ती की समस्याओं के निराकरण के लिए कई बार कहा गया लेकिन कोई ध्यान ही नहीं देता है। बस्ती के लोग बेहद परेशानी के बीच रहते हैं।- सपना

सभासद बोले

मोहल्ले की समस्याओं के निराकरण के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। सबसे बड़ी दिक्कत पानी है जिसके लिए कई बार जिला प्रशासन के अधिकारियों से संपर्क किया गया। कंजर बस्ती की समस्याओं को लेकर सड़क व नाली के प्रस्ताव बोर्ड बैठक में रखे गए हैं। मोहल्ले की समस्याओं का निराकरण हो सके इसके लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। -संतोष कुमार सभासद

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप