जागरण संवाददाता, उरई : जिले में आए दिन डेंगू के मरीज मिल रहे हैं। बुधवार को भी एट में एक नया मरीज सामने आया है। एक जगह लार्वा मिला है। मलेरिया विभाग की परेशानियां बढ़ती ही जा रही है। 31 संदिग्धों के सैंपल लिए गए हैं।

जिले में डेंगू के अब तक 16 मरीज मिल चुके हैं। जिसमें से एक की मौत भी हो चुकी है। निकायों की कमियों की वजह से शहर से लेकर गांवों तक गंदगी पर अंकुश नहीं है। बरसात के बाद नालियों को साफ न करना सबसे बड़ी समस्या है। यही कारण है कि शहर में मच्छरों का भरमार है। मलेरिया निरीक्षक सुरेश नागर ने बताया कि बचाव को ध्यान में रखकर एट में 58 घरों को चेक कर पैराथिरम का छिड़काव किया गया। वहीं जागरूकता के लिए 78 पंपलेट बांटे गए हैं। 54 घरों में दवा का छिड़काव किया गया। साथ ही नालियों में दवाओं का छिड़काव और फागिग भी कराई जा रही है। 17 पात्र खाली कराए गए हैं। जिसमें कूलर फ्रीज और सीमेंट की टंकी आदि है। वहीं एटर में एक पात्र में डेंगू का लार्वा पाया गया है। इसके बाद फॉगिग की गई। अन्य लोगों में डेंगू का पता लगाने के लिए 31 लोगों के खून के सैंपल लिए गए। ------------------------

तीन साल के डेंगू के आंकड़े

वर्ष - मरीज

2021 16

2020 22

2019 36

------------------------

एट में डेंगू का मामला सामने आया है। रोकथाम को लेकर दवा का छिड़काव व फागिग कराई जा रही है। साथ ही संदिग्धों के सैंपल लिए गए हैं।

नरेंद्र देव शर्मा, सीएमओ

-------------

बुखार व पेट दर्द से बच्चे की मौत

उरई: तहसील क्षेत्र के कदौरा ब्लॉक के ग्राम जयरामपुर निवासी अतुल पुत्र भगवानदास 12 वर्षीय देर शाम बुढ़वा मंगल पर गांव में भंडारा खाया। उसके बाद उसके पेट में दर्द होने लगा और बुखार भी आ गया। सुबह बच्चे को जिला अस्पताल लेकर पहुंचे जहां पर चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। एसीएमओ एसडी चौधरी ने बताया कि बच्चा मृत अवस्था में जिला अस्पताल में आया था, बच्चे की बहन को भी बुखार आया है। जिसे कालपी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है। कोरोना, मलेरिया सहित अन्य जांचे भी कराई गई। सभी जांचे निगेटिव आई हैं। बच्चे की मौत डेंगू व मलेरिया से नहीं हुई है।

Edited By: Jagran